रॉयल बेबी: क्या होगा 'प्रिंस कैम्ब्रिज' का भविष्य?

ब्रिटेन के राजसिंहासन के उत्तराधिकारियों के सीधे दावेदारों की पंक्ति में तीस साल में पहली बार कोई बच्चा पैदा हुआ है.

वर्ष 1948 में जन्मे राजकुमार चार्ल्स पहले, 1982 में जन्मे राजकुमार विलियम दूसरे और अब तक अनाम राजकुमार राजगद्दी के तीसरे दावेदार हैं.

नवजात राजकुमार राष्ट्रमंडल के 15 सदस्य देशों के प्रमुख होंगे.

किसी भी दूसरे नवजात के मुकाबले बेबी कैंब्रिज के जीवन का ढांचा और चक्र दरअसल पूर्व निर्धारित है.

ब्रिटेन के शाही घराने में आया नया राजकुमार

इस बच्चे को दुनिया की सबसे पुरानी राजशाही में से एक विरासत में मिली है.

वह उन बहुत सारे दबावों और निराशाओं से दूर रहेगा जिनका हम सबको रोज़ की ज़िंदगी में सामना करना पड़ता है.

लेकिन यह स्थिति कभी-कभी अपनी तरह की चुनौतियां भी लाती है.

खा़स या बेहतर?

जब आपको इतना सब कुछ तश्तरी में परोस कर दिया जाता है तो शाही परिवार के संवेदनशील सदस्य के लिए अपनी क्षमताओं पर संदेह करने की आशंका बन जाती है.

Image caption राजकुमार चार्ल्स और राजकुमारी डायना नन्हे विलियम के साथ

आप समाज के शीर्ष पर होते हैं और इसके लिए कुछ भी साबित किए बगैर हर क्षेत्र के सफल लोगों से घिरे रहते हैं.

वंशानुगत व्यवस्था की शायद यही वह बात है जिससे प्रजातंत्रवादी और योग्यता आधारित व्यवस्था के समर्थक सबसे ज़्यादा चिढ़ते हैं.

इसलिए शाही परिवार के युवा सदस्य को बाहरी समाज में खुद को परखने और अपनी क्षमताओं को पहचानने का मौका दिया जाना महत्वपूर्ण हो जाता है.

राजकुमार विलियम और हैरी के समय इसे समझा गया ताकि उनका आत्मविश्वास पूर्वधारणाओं के बजाय अपनी उपलब्धियों पर आधारित हो.

दोनों राजकुमारों ने इसे सैन्य सेवाओं के ज़रिए हासिल किया. विलियम ने आरएएफ़ में खोज और बचाव पायलट के तौर पर और हैरी ने सेना में अफ़गानिस्तान में नियुक्ति के दौरान.

समय के साथ यही सिद्धांत राजपरिवार के नए सदस्य पर भी लागू किया जाना चाहिए. ज़्यादातर लोग मानेंगे कि बेबी कैंब्रिज “ख़ास” है.

लेकिन जिस समाज में वह बड़ा होगा उसमें वह आसानी से यह मानने की ग़लती कर सकता है कि ख़ास होने का मतलब “बेहतर” होना है.

Image caption राजकुमार विलियम और राजकुमारी केट का बेटा शाही गद्दी का तीसरा दावेदार है

समय बीतने के साथ बेबी कैंब्रिज को वही करना होगा जो उसके पिता, दादा और परदादी ने करने की कोशिश की है- अपनी-अपनी भूमिकाओं को इस तरह से निभाना कि लोग आपका आदर करें.

नि:संदेह इसका सबसे अच्छा उदाहरण उनकी परदादी होंगी, जिन्होंने रानी के रूप में अपनी भूमिका में ज़िम्मेदारी और नम्रता दोनों का प्रदर्शन किया है.

प्यार भरा वातावरण

बहरहाल यह सभी बातें भविष्य की हैं. जिस चुनौती का सामना नए राजकुमार को कम उम्र में ही करना पड़ सकता है वह है- उनके हर काम पर लोगों की नज़र.

विलियम को अपने बचपन के अनुभव से पता है कि यह चीज़ कितनी दखलअंदाज़ और परेशान करने वाली हो सकती है.

उनकी कोशिश होगी कि वह अपने बच्चे को दुनिया भर के मीडिया की नज़र से बचाकर रखें जिनके लिए युवा राजकुमार से संबंधित ख़बर बहुत बिकने वाला समाचार हो सकती है.

कैथरीन भी इस हकीकत को जानती हैं और वह भी कोशिश करेंगी कि उनका पहला बच्चा जितने “सामान्य” ढंग से पल सके उतना अच्छा होगा.

Image caption शाही परिवार के हर सदस्य पर दुनिया की नज़रें टिकी रहती हैं

केट की मां कैरल बच्चे की अकेली नानी होंगी. और अपनी बड़ी बेटी से उनकी नज़दीकी को देखते हुए यह सोचना ग़लत नहीं होगा कि बच्चे पर उनका भी प्रभाव महत्वपूर्ण होगा.

तो बेबी कैंब्रिज यह उम्मीद कर सकता है कि बड़े होने और यह समझने के लिए कि उसे क्या चाहिए उसे प्यार भरा वातावरण मिल सकता है.

एक समय के बाद हो सकता है कि उनका छोटा भाई या बहन पैदा हो.

क्योंकि शाही परिवार अब समझ चुका होगा कि कई शाही युवाओं को पैदा करने की समस्याएं हो सकती हैं. उनमें से हर एक के लिए भूमिका की तलाश करना भी काफ़ी कठिन काम हो सकता है.

तो बेबी कैंब्रिज का भविष्य क्या हो सकता है?

संक्षेप में, पूरी ज़िंदगी के लिए लोगों की उत्सुकता का केंद्र बने रहना, फिर समय के साथ दुनिया की सबसे-अच्छी वंशानुगत राजशाही को आगे बढ़ाए रखने की ज़िम्मेदारी को संभालना.

प्रजातंत्रवादियों को चाहे इससे कितनी ही दिक्कत हो, इस बात की बहुत संभावना है कि आज से करीब पचास साल बाद यह बच्चा राजा का पदभार ग्रहण करने के लिए सोने की एक बग्घी पर सवाल होकर वेस्टमिंस्टर एबे पहुंचे.

इस राजशाही की जिसकी जड़ें एक हज़ार साल पहले वेसेक्स के राजा एग्बर्ट तक जाती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार