मिस्र में रैलियाँ और झड़पें, पाँच की मौत

मिस्र में प्रदर्शनकारी
Image caption मुर्सी के समर्थन में हज़ारों लोगों ने रैली निकाली

मिस्र में पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद मुर्सी के समर्थन में और विरोध में बड़े पैमाने पर रैलियाँ हुई हैं. सरकारी मीडिया के मुताबिक अलक्ज़ाड्रिया शहर में हुई हिंसा में पाँच लोगों की मौत हो गई और कम से कम 72 लोग घायल हुए.

मुर्सी के समर्थकों ने काहिरा में एक मस्जिद के पास गलियों को भर दिया. ये लोग मुर्सी को सेना द्वारा हटाए जाने का विरोध कर रहे थे. वहीं सेना के समर्थक भी कुछ मील दूर तहरीर चौराहे पर जमा हुए.

रात को भी सड़कों पर झड़पें जारी थी और पुलिस को स्थिति संभालने में काफ़ी दिक्कत हो रही थी.

मुर्सी इस वक़्त हिरासत में हैं और उन पर फ़लस्तीनी गुट हमास के साथ साज़िश रचने का आरोप लगाया गया है.

हिंसा

अदालत के मुताबिक उनसे 15 दिन के लिए पूछताछ की जाएगी. मुर्सी की न्यायिक स्थिति को लेकर ये पहला आधिकारिक बयान सामने आया है.

इससे पहले सेना प्रमुख जनरल अब्देल ने लोगों से कहा था कि वो सड़कों पर उतरें ताकि मुर्सी को हटाने के लिए सेना ने जो हस्तक्षेप किया है उसे मान्यता मिल सके.

मुस्लिम ब्रदरहुडके मोहम्मद मुर्सी मिस्र के पहले लोकतांत्रिक तरीके से चुने गए राष्ट्रपति थे. तीन जुलाई को उन्हें हटाए जाने के बाद हुई झड़पों में अब तक कई लोग मारे जा चुके हैं.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्नेपर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार