नौकरी चाहिए तो पहले कुंडली दिखाएं!

  • 29 जुलाई 2013
चीन, कर्मचारी, राशि

सुनने में अजीब लगता है लेकिन ख़बरों के मुताबिक चीन में ऐसा हो रहा है. चीन के नियोक्ता नौकरी के इच्छुक आवेदकों को उनके ग्रहों और राशि के आधार पर इंटरव्यू के लिए बुला रहे हैं.

चीन के लियाओनिंग प्रांत से निकलने वाले अख़बार 'बंडाओ मॉर्निंग न्यूज़' के अनुसार एक ट्रेवल एजेंसी ने अपने विज्ञापन में लिखा है कि उसे केवल "मिथुन, तुला और कुंभ राशि" वालों की ज़रूरत है.

मानव दूध का चस्का!

अख़बार लिखता है कि शू जिंगपिन नाम के एक कॉलेज ग्रेजुएट ने सभी ज़रूरी योग्यताएं रखने के बावजूद यह अवसर सिर्फ इसलिए गंवा दिया क्योंकि उनके सितारे नियोक्ताओं की शर्त के मुताबिक़ नहीं थे.

एक ट्रेवल एजेंसी ने विज्ञापन दिया है कि उसे केवल "मिथुन, तुला और कुंभ राशि" वालों की ज़रूरत है.

हॉन्ग कॉन्ग के अखबार 'साउथ चीन मॉर्निंग पोस्ट' के ऐमी ली ने भी इस मामले को उठाया है. अखबार ने चेंगदू के एक स्टाफ़ के हवाले से कहा है कि वहां राशियों के आधार पर किसी की उम्मीदवारी पर विचार किया जाता है.

कानूनों का अभाव

उन्होंने कहा, "सिंह राशि वालों को गुस्सैल माना जाता है. इसके बावजूद हमारे कई साथी इसी राशि के हैं."

ली कहते हैं कि चीन में पश्चिमी ज्योतिषशास्त्र की लोकप्रियता भी काफ़ी बढ़ रही है. इंटरनेट पर कई ब्लॉगर्स हैं, जो इसके बारे में लिखते-पढ़ते हैं और उनके समर्थकों की संख्या भी अच्छी ख़ासी है.

वे एक वकील के हवाले से कहते हैं कि देश में इस तरह के भेदभाव को रोकने वाले क़ानूनों के अभाव में नौकरी के लिए आवेदन करने वालों के साथ होने वाला भेदभाव रोक पाना नामुमकिन है.

हॉन्गकॉन्ग में जनसंपर्क के पेश से जुड़े टेरेंस वॉन्ग कहते हैं कि उनके यहाँ नियोक्ता पश्चिमी राशि चिह्नों पर कम तवज्जो देते हैं लेकिन अक्सर वे गुपचुप तरीक़े से आवेदकों के चीनी राशिचिह्नों को ध्यान में रखते हुए उम्मीदवारी का फैसला करते हैं.

( बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार