लीबिया : 1000 से ज़्यादा क़ैदी जेल से फ़रार

  • 28 जुलाई 2013
जेल (फ़ाइल फ़ोटो)

लीबिया के शहर बेनग़ाज़ी में 1000 से ज़्यादा क़ैदी जेल से फ़रार हो गए हैं. जेल के एक अधिकारी ने समाचार एजेंसी एपी को बताया कि फ़रार हुए ज़्यादातर क़ैदियों पर गंभीर आरोप थे.

बेनग़ाज़ी में सुरक्षा विभाग के एक प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया है कि जेल से भागे कुछ क़ैदियों को दोबारा पकड़ लिया गया है लेकिन ये नहीं बताया गया है कि कितन क़ैदियों को.

एक पत्रकार वार्ता में लीबिया के प्रधानमंत्री अली ज़ेदान ने कहा कि शहर के दक्षिणी इलाक़ों में लोगों ने जेल पर धावा बोल दिया था. वे अपने क्षेत्र में जेल के होने से नाराज़ थे.

एएफ़पी ने एक अधिकारी के हवाले से लिखा है कि जेल से भागने की घटना से पहले वहाँ अस्थिरता का माहौल था. अधिकारी के मुताबिक, जेल के अंदर घमासान मचा हुआ था और बाहर से भी हमला हुआ. क़ैदियों पर गोली न चलाने के आदेश दिए गए थे.

लीबिया में गद्दाफ़ी के जाने के बाद बेनग़ाज़ी को सबसे अस्थिर शहरों में से एक माना जाता है. पिछले साल अमरीकी राजदूत और तीन अन्य अमरीकियों को यहां मार दिया गया था. ये स्पष्ट नहीं है कि जेल से भागने की ये घटना शहर में जारी राजनीतिक अस्थिरता का हिस्सा है या नहीं.

इससे पहले प्रदर्शनकारियों ने मुस्लिम ब्रदरहुड से जुड़े कार्यालयों पर हमला किया था. एक दिन पहले ही बेनग़ाज़ी में राजनीतिक कार्यकर्ता अब्देल सलाम अल मिसमारी की हत्या कर दी गई है.

प्रदर्शनकारियों ने मुस्लिम ब्रदरहुड की राजनीतिक ईकाई जस्टिम एंड कन्स्ट्रक्शन पार्टी के दफ़्तर पर हमला किया.

बेनग़ाज़ी में शुक्रवार को एक रिटायर्ड कर्नल और एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी की भी हत्या कर दी गई थी. यहाँ लगातार सुरक्षा अधिकारियों को निशाना बनाया जा रहा है.

गद्दाफी को हटाने के दो साल बाद भी लीबियाई सरकार हथियारबंद गुटों को निंयत्रण में करने के लिए संघर्ष कर रही है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार