अमरीका के नस्ली हिंसा आँकड़ों में सिख भी

Image caption एरिक होल्डर अटॉर्नी जनरल हैं

अमरीकी न्याय विभाग का कहना है कि वह उन लोगों के खिलाफ सूचना जुटाना शुरू करेगा, जिन्होंने छह धार्मिक अल्पसंख्यकों और अरब मूल के लोगों के खिलाफ घृणा फैलाने वाला बयान दिया था.

अटॉर्नी जनरल एरिक होल्डर का कहना था, अमरीका की संघीय जांज एजेंसी एफबीआई सिखों, हिन्दुओं, बौद्धों, मोर्मोन्, जोवोआ और परंपरागत ईसाइयों को और बेहतर सुरक्षा उपलब्ध कराने के लिए खुद आँकड़े खँगाल रहा है.

ये घोषणा पिछले साल विस्कॉन्सिन में हुए एक गुरुदारे पर हमले की बरसी के वक्त हुई है. इस घटना में कम से कम छह लोग मारे गए थे.

समाचार एजेंसी एपी के मुताबिक एफबीआई के निदेशक रॉबर्ट मुलर ने एजेंसी की ओर से दी गई इस सिफारिश को स्वीकृति दे दी है.

नस्ली हिंसा

एक साल पहले विस्कॉन्सिन स्थित एक गुरुद्वारे में एक व्यक्ति ने अँधाधुंध गोलयां चलाकर छह लोगों की हत्या कर दी थी.

इसके बाद पुलिस की गिरफ्तारी से बचने के लिए उसने खुद को भी गोली मार ली थी.

होल्डर का कहना था कि ये हमला घृणास्पद कार्रवाई का एक घातम नमूना था.

इस हमले में गुरुद्वारा के अध्यक्ष सतवंत सिंह भी मारे गए थे. उनके बेटे प्रदीप कालेका का कहना था कि वो ऐसे किसी भी कदम का समर्थन करते हैं जो कि नस्ल, लिंग अथवा धर्म के आधार पर लोगों को शिकार बनाने के प्रति आगाह करती हो.

होल्डर ने लिखा है कि 11 सितंबर की घटना के बाद से ही न्याय विभाग ने 800 से ज्यादा मामलों की जांच की है जिनमें अरबों, मुसलमानों, सिखों और अन्य दक्षिण एशियाई लोगों को शिकार बनाया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक औरट्विटरपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार