पाकिस्तान में भारी बारिश और बाढ़ से 45 लोगों की मौत

कराची बाढ़

पाकिस्तान में पिछले तीन दिनों में भारी बारिश और बाढ़ से कम से कम 45 लोग मारे गए हैं. दक्षिणी शहर कराची सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है. तेज़ बारिश और बाढ़ के कारण यहाँ 19 लोगों की मौत हो गई.

ज्यादातर लोग बिजली का झटका लगने या भारी बारिश के कारण दीवारों के ढहने से मारे गए. पाकिस्तान के आपदा प्रबंधन विभाग ने यह जानकारी दी.

बाढ़ के कारण सैंकड़ों लोग लापता हो गए हैं. राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) के प्रवक्ता ब्रिगेडियर कामरान ज़िया ने बीबीसी से बातचीत में बताया कि ये मौतें पिछले एक हफ़्ते के दौरान हुई तेज बारिश के बाद आई बाढ़ और इनसे जुड़े हादसों के कारण हुईं.

कराची में मौजूद बीबीसी संवाददाता के मुताबिक शहर में आम जनजीवन सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है. यहाँ के वॉटर पंपिग स्टेशनों ने काम करना बंद कर दिया है. कराची के वॉटर एंड सीवरेज विभाग के प्रवक्ता नूर मोहम्मद चौहान ने बीबीसी से कहा कि शहर के वॉटर स्टेशन आम हालात में काम करने के लिए हैं, बारिश में यह बेकार हो जाते हैं.

कराची के साथ-साथ सिंध के अन्य शहरी और ग्रामीण इलाके भी व्यापक स्तर पर बारिश और बाढ़ से प्रभावित हुए हैं. पाकिस्तान के मौसम विभाग के मुताबिक़ अगले चौबीस घंटे के भीतर सिंध और काबुल नदियाँ ख़तरे के निशान से ऊपर रहेंगी.

जनजीवन प्रभावित

ब्रिगेडियर कामरान ज़िया के मुताबिक़ ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह में भी आम जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है. यहाँ के अलग-अलग इलाक़ों में आठ लोगों के मारे जाने की ख़बर है.

पेशावर में मौजूद बीबीसी संवादादाता के मुताबिक़ कल से हो रही तेज़ बारिश के कारण शहर का बढ़नी इलाक़ा बुरी तरह प्रभावित हुआ है. यहाँ बाढ़ के पानी के कारण सड़कों पर ट्रैफ़िक भी बंद रहा.

ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह के डेरा इस्माइल ख़ान में भी बाढ़ का पानी घुस गया. एनडीएमए यहाँ भी राहत और बचाव के कार्य में जुटी है.

बाढ़ और बारिश के कारण पंजाब सूबे में अब तक 12 लोगों की मौत हुई है. वहीं बलूचिस्तान में चार लोग मारे गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार