अल-कायदा नेताओं से मिली अमरीका को साजिश की जानकारी

Image caption अल-कायदा प्रमुख अल-ज़वाहिरी की बातचीत के आधार पर अमरीकी एजेंसियों को किसी बड़े हमले की साजिश का पता चला है.

अमरीकी खुफिया एजेंसियों द्वारा दो प्रमुख अलक़ायदा नेताओं की आपसी बातचीत को टैप किए जाने के बाद अमरीका ने रविवार को अपने कई दूतावासों को बंद रखा.

अमरीका के प्रमुख समाचार पत्र न्यूयार्क टाइम्स ने बताया है कि इस बातचीत में शीर्ष अल-कायदा नेता अयमान अल-ज़वाहिरी शामिल थे. हमले की इस योजना को 9/11 की घटना के बाद सबसे बड़ी साजिश बताया जा रहा है.

इससे पहले अमरीका ने कहा था कि “अत्यधिक सतर्कता” के कारण उत्तरी अफ्रीका और मध्य पूर्व के दूतावासों को बंद रखने का फैसला किया गया है.

बीते रविवार को करीब 20 अमरीकी दूतावास और वाणिज्य दूतावास बंद थे.

अमरीका के विदेश मंत्रालय ने बीते सप्ताह ‘ ग्लोबल ट्रैवल अलर्ट’ जारी किया था, जो कि अगस्त के अंत तक प्रभावी रहेगा.

खतरा कायम

Image caption अल-कायदा के हमले की आशंका को देखते हुए कई यूरोपीय देशों ने भी अपने दूतावासों को बंद कर दिया है.

अबू धाबी, अम्मान, काहिरा, रियाध, धहरान, जेद्दा, दोहा, दुबई, कुवैत, मनामा, मस्कट, साना और त्रिपोली में अमरीका के राजनयिक केन्द्र शनिवार तक बंद रहेंगे.

कई यूरोपीय देशों ने भी यमन में अपने दूतावासों को अस्थाई रूप से बंद कर दिया है और ब्रिटेन के विदेश विभाग ने इस देश की यात्रा से परहेज़ करने की सलाह दी है.

बीबीसी की रजनी वैद्यनाथन ने वाशिंगटन से बताया है कि व्हाइट हाउस और अमरीकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ताओं ने कहा है कि ख़तरा अफ्रीकी प्रायद्वीप में अल-क़ायदा की तरफ से था, लेकिन उन्होंने आगे कोई ब्यौरा देने से इनकार किया.

दूसरी तरफ न्यूयार्क टाइम्स ने कहा है कि अमरीका ने ज़वाहिरी और यमन स्थित समूह के मुखिया नासिर अल-वुहाएशी के बीच बातचीत को टैप किया है.

समाचार पत्र के मुताबिक इस बातचीत के दौरान यह पता नहीं चल सका कि उनके निशाने पर कौन सी जगह है, लेकिन यह पता चला कि हमला जल्द ही हो सकता है.

अमरीकी अधिकारियों ने एसोसिएटेड प्रेस को बताया कि ज़वाहिरी का संदेश कुछ दिनों सप्ताह पहले टैप किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार