मिस्र: मुर्सी समर्थकों पर पुलिस की कार्रवाई

Image caption प्रदर्शनकारी सैनिक अधिकारियों को स्थानीय गवर्नर बनाने का विरोध कर रहे थे

मिस्र में राजधानी काहिरा में पुलिस ने पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद मुर्सीके समर्थक प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आँसू गैस के गोले छोड़े हैं.

बड़ी संख्या में मुर्सी के समर्थक एक सरकारी परिसर में पहुंच गए और वहां सेना के अधिकारियों की स्थानीय गवर्नरों के तौर पर नियुक्ति किए जाने का विरोध करने लगे.

इसके बाद स्थानीय लोगों और मुर्सी समर्थकों में झड़पें शुरू हो गईं और दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के ऊपर पत्थर और बोतलें फेंकी. उसके बाद सुरक्षा बलों ने उन लोगों को वहां से हटा दिया.

सेना ने गत जुलाई महीने में मुर्सी को अपदस्थ कर दिया था और उनकी जगह पर एक अंतरिम सरकार की नियुक्ति की गई थी.

मुर्सी इस्लामी नेता हैं और मुस्लिम ब्रदरहुड आंदोलन के जरिए वो राजनीति में आए हैं. उनके समर्थकों ने नई सरकार को मानने से इंकार कर दिया और मुर्सी को दोबारा सत्ता सौंपने की मांग की.

समर्थकों का कहना है कि सेना ने एक लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई सरकार का तख्ता पलट दिया और खुद पूरी सत्ता पर कब्जा करना चाहती है.

मुर्सी पर आरोप

वहीं मुर्सी के विरोधियों का कहना है कि अपने एक साल के शासनकाल में उन्होंने देश की धर्मनिरपेक्ष छवि को नुकसान पहुंचाया और लोकतांत्रिक संस्थाओं में इस्लाम का प्रभाव बढ़ाने की कोशिश की.

मंगलवार को हिंसा की शुरुआत तब हुई जब मुर्सी समर्थकों की भीड़ ने उस क्षेत्र की ओर बढ़ना शुरू किया जहां तमाम सरकारी इमारतें हैं और जहां ऐसे बहुत से लोगों के घर हैं जो मुस्लिम ब्रदरहुड के विरोधी हैं.

प्रदर्शनकारी इस बात से बौखलाए हुए थे कि सरकार ने करीब 15 सैनिक अधिकारियों को स्थानीय गवर्नरों के रूप में शपथ दिला दी.

प्रदर्शनकारियों ने सरकारी परिसर में घुसने की कोशिश की लेकिन उन्हें बल पूर्वक बाहर कर दिया गया और इसी दौरान इनकी स्थानीय लोगों और पुलिस के साथ संघर्ष हुआ.

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि स्थानीय लोगों ने अपने घरों से प्रदर्शनकारियों पर पत्थर फेंके और उन्हें आतंकवादी कहकर व्यंग्य कस रहे थे.

हालांकि मिस्र में लाखों लोग मुर्सी को हटाए जाने के विरोध में प्रदर्शन किया था लेकिन संवाददाताओं का कहना है कि इस घटना से मिस्र के समाज में विभाजन गहराता जा रहा है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार