पहनने वाली तकनीक से बदलेगी दुनिया?

गूगल ग्लास से पहले की दुनिया की ऐसी नहीं थी, जैसी अब हो गई है.

इस ग्लास के इस्तेमाल से आप फोटो ले सकते हैं, मैसेज भेज सकते हैं. इससे दिशा का पता चल सकता है और दूसरी तमाम चीजें भी कर सकते हैं.

ऐसे में वाकई में गूगल ग्लास अविश्वसनीय चीज है.

गूगल ग्लास उन पहनने वाली तकनीकों में शामिल है जिसके जरिए माना जा रहा है कि आम लोगों का जीवन बदल सकता है.

हालांकि इस मुद्दे पर अभी बहस जारी है कि कंप्यूटर और इंसानों के नजदीकी बढ़ने से किस तरह के सकारात्मक बदलाव होंगे, इन तकनीकों के बाज़ार और कारोबार के बारे में ज़्यादा चर्चा देखने को नहीं मिलती.

'तकनीक से हैप्पी बर्थडे'

हालांकि अभी वियरेबल टेक्नॉलॉजी (ऐसी तकनीक जिसे पहनना संभव होगा) के शुरुआती दिन हैं लेकिन ढेरों ऐसी कंपनियां हैं जो इसके कारोबार पर ध्यान देने लगी हैं.

अमरीकी क्लाउड टेक्नॉलॉजी कंपनी रैकस्पेस में हुए अनुसंधान से ये पता चला है कि अभी उनके कर्मचारियों के पास इन उपकरणों से महज छह फीसदी का ही कारोबार मिल पाया है.

लेकिन कॉग्निजेंट टेक्नॉलॉजी सोल्यूशन के मोबिलिटी विभाग के मुखिया वेद सेन के मुताबिक स्थिति में बदलाव होने वाला है.

गूगल ग्लास के प्रयोगों के दायरे को देखते हुए वे कहते हैं, “कल्पना कीजिए, एक शख्स बॉयलर को पकड़े हुए है, वह एक भारी उपकरण के नीचे है और उसे अपने हाथों के सहारे से उसे पकड़े रहना है, इसके बावजूद वह कंप्यूटिंग वातावरण में काम कर सकता है.”

कनेक्टिविटी से बदल जाएगी दुनिया

वेद सेन आगे कहते हैं कि एक सेल्स पर्सन के उदाहरण को देखिए, जो अपने किसी उपभोक्ता के दफ्तर में पहुंचता है और वहां उसे सारी सूचनाएं अपनी आंखों के सामने चाहिए. मसलन, कंपनी से अंतिम ऑर्डर क्या दिया था?, क्या वे इससे ख़ुश थे? या फिर उपभोक्ता का अंतिम जन्मदिन कब था?

ऐसी स्मार्ट तकनीकों का प्रयोग केवल चश्मे के तौर पर नहीं होगा.

सेन कहते हैं, “मान लीजिए कि मैं एक बड़े सुविधा केंद्र का मैनेजर हूं. मैं टहल रहा हूं. मेरे जूते में कोई चीज है. मैं एक उपकरण को इस्तेमाल करता हूं जो बता देता है कि वो चीज इस्तेमाल के लायक है या नहीं, या फिर आवाज़ के जरिए मुझे सूचित कर देते हैं.”

दरअसल इन स्मार्ट तकनीकों के सहारे इंसानों के आसपास से संपर्क कहीं ज्यादा मज़बूत हो सकता है. वेद सेन कहते है, “इससे हमारे चीजों को समझने की क्षमता बेहतर होगी.”

डेलॉइट के रिसर्च निदेशक डंकन स्टीवार्ट ने कहा कि वियरेबल टेक्नॉलॉजी से कारोबार की दुनिया पर काफी असर पड़ेगा. ख़ासकर उन क्षेत्रों में जहां दूसरी चीजें का स्तर कमतर है.

वे कहते हैं, “स्मार्ट फोन और पर्सनल कंप्यूटर को बदलने पर असर नहीं होगा लेकिन जिन लोगों का संपर्क मोबाइल और लैपटॉप से नहीं है, उनके हाथों में इन तकनीकों के आने से काफी असर पड़ेगा.”

डंकन स्टीवार्ट कहते हैं, “कोई फोर्कलिफ्ट चला रहा हो तो वह पीसी और स्मार्टफोन का इस्तेमाल नहीं कर सकता, क्योंकि इससे टक्कर लगने का अंदेशा पैदा हो जाएगा. लेकिन कल्पना कीजिए वह फोर्कलिफ्ट को चलाते हुए ही कोई बॉक्स खोल ले और उससे अपने काम की चीज को बाहर निकाल ले.”

(कपड़े जो राह दिखाएंगे और गुम भी नहीं होंगे)

रिटेल कारोबार पर असर

उन्होंने तुलानात्मक तौर पर बताया है कि मोबाइल फोन के जरिए भुगतान से क्रांतिकारी बदलाव अफ़्रीका में देखने को मिल रहा है.

डंकन के मुताबिक लोगों के चेक और एटीएम तक पहुंच की सुविधा उपलब्ध नहीं लेकिन वे बड़े पैमाने पर ऑनलाइन भुगतान कर रहे हैं.

स्वास्थ्य सेवाओं में वियरेबल तकनीकों का इस्तेमाल शुरू हो गया है. नाइके का फ्यूलबैंड ऐसी तकनीक है जो लोगों के शारीरिक गतिविधियों को मापती है.

उन गोलियों की बात भी हो रही है जिसको निगलने से ना केवल वह दवा का काम करेगी बल्कि वह शरीर पर होने वाली प्रतिक्रियाओं की निगरानी भी करेगी. रिटेल एनवायरनमेंट एक दूसरा क्षेत्र है जिसमें लाभ होने की उम्मीद की जा रही है.

वियरबेल तकनीक ग्राहकों को वैसा मौका उपलब्ध कराएगी जिससे वो उत्पादों के बीच तुलना कर पाएंगे. ठीक उसी तरह से जिस तरह से ऑनलाइन विशेष ऑफ़रों की पड़ताल होती है, लेकिन उन्हें अपनी आंखों के सामने इन उत्पादों के बारे में जानने को मौका मिलेगा.

डिजिटल कॉमर्स फर्म के वेंदू के निदेशक जेम्स क्रोनिन ने कहा कि कनेक्टेविटी बढ़ने से कारोबारी फायदा बढ़ेगा.

क्रोनिन कहते हैं, “निजीकरण के इस दौर में इससे उपभोक्ताओं और व्यापारियों को काफी फायदा होगा, पिछले कुछ सालों में ऑनलाइन कारोबार का चलन बढ़ा है.”

काग्निजेंट के वेद सेन के मुताबिक उपभोक्ताओं के लिए ये काफी फायदे का सौदा होगा जब वे किसी स्टोर में टीवी खरीदने जाएंगे और उन्हें टीवी की कीमतें, वारंटी और दूसरी तुलनात्मक चीजों के बारे में जानकारी मिल रही हो.

हालांकि वियरेबल टेक्नॉलॉजी के उपभोक्ताओं को टारगेट करने वाली कंपनियों को थोड़ी सावधानी भी बरतनी होगी.

निजता का सवाल

टेक्नॉलॉजी कंसलटेंसी एमेज के टुंडे कॉकशॉट कहते हैं, “वियरेबल उत्पाद अपनी प्रकृति में काफी व्यक्तिगत होते हैं.”

वे चेतावनी भरे लहजे में कहते हैं, “वे मेरे बारे में सूचना और अनुभव एकत्रित करते हैं, जैसे शरीर, स्थान, वातावरण, गतिविधि, विजन और मेरी दिलचस्पी के बारे में. इस तरह की जानकारी और नितांत व्यक्तिगत अनुभव के दायरे को ब्रांड दखल नहीं दे सकती.”

वे कहते हैं, “उन्हें इस बात पर विचार करना होगा कि वे इस आंकड़े का इस्तेमाल किस तरह से करते हैं ताकि वे प्रासंगिक भी बना रहे और उपभोक्ताओं को सेवा भी दे पाए.”

(इंटरनेट इतिहास का सबसे बड़ा हमला)

हैकरों के निशाने पर

हालांकि नई तकनीक के चलते कई ऐसे मुद्दे हैं जिसके बारे में विचार करना होगा. हालांकि शुरुआती तौर पर ये महंगा भी होगा और इसमें मुश्किलें भी सामने आएंगी.

इसके अलावा दूसरी सामान्य मुश्किलें भी सामने आ सकती हैं- मसलन बैटरी का समाप्त हो जाना. इससे उन लोगों को काफी मुश्किल जो ऐसे उपकरणों पर निर्भर हो जाएंगे.

हालांकि इसमें प्राइवेसी और सुरक्षा का मसला जुड़ा है. अगर पहनने वाली तकनीकों के इस्तेमाल से ढेर सारी सूचनाएं प्राप्त हो सकेंगी तो फिर ये तकनीक हैकरों के निशाने पर होंगी.

हैकरों की कंपनी ट्रस्टवेव के सीनियर वाइस प्रेसीडेंट निकोलस पेरकोको ने कहा, “अगर मैं एक हमलावर हूं तो मैं किसी के व्यक्तिगत जीवन और उसके बारे में तमाम जानकारी हासिल करना चाहूंगी और इसके लिए मैं वियरेबल तकनीकों में सेंध लगाऊंगा.”

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार