ब्रैडली मैनिंग ने अमरीका से मांगी माफ़ी

bradley manning, ब्रैडली मैनिंग
Image caption ब्रैडली मैनिंग को जाजूसी के 20 मामले और की अन्य मामलों में दोषी पाया गया है.

विकीलीक्स को अमरीकी सरकार की अति गोपनीय जानकारियां उपलब्ध कराने वाले अमरीकी सैनिक ब्रैडली मैनिंग ने माफ़ी मांगी है.

मैरीलैंड के फ़ोर्ट मीड में हो रही मामले की सुनवाई के दौरान 25 वर्षीय मैनिंग ने कहा कि, उन्होंने सोचा कि उनके इस क़दम से दुनिया में सकारात्मक बदलाव आएगा.

मौनिंग ने कहा कि उन्हें ‘सिस्टम के भीतर’ ही रहकर बदलाव लाने के प्रयास करने चाहिए थे.

जासूसी के 20 और अन्य मामलों में पिछले महीने दोषी सिद्ध होने के बाद मैनिंग को 90 साल तक की सज़ा हो सकती है.

‘मिली गई सीख’

अदालत में सुनवाई के दौरान मैनिंग ने कहा, “मेरी हरकतों से लोगों को दुख पहुंचा है, इसके लिए मै सबसे माफ़ी मांगता हूं. मैं शर्मिंदा हूं कि मेरी वजह से अमरीका को नुकसान पहुंचा.”

उन्होंने आगे कहा, “अनजाने में उठाए गए मेरे कदम से जो भी हुआ उसके लिए मैं माफ़ी मांगता हूं. पिछले तीन साल में मुझे काफ़ी कुछ सीखने को मिला.”

जुलाई में सेना के जज कर्नल डेनिस लिंड ने मैनिंग को जासूसी के 20 और कुछ अन्य मामले में दोषी पाया था.

ब्रैडली मैनिंग स्वीकार कर चुके हैं कि साल 2010 में जब वो इराक़ में थे, तो उन्होंने हज़ारों रिपोर्ट और गोपनीय जानकारियां विकीलीक्स को उपलब्ध कराई.

मैनिंग की 'उम्मीद'

Image caption ब्रैडली मैनिंग अपनी निजी ज़िंदगी को लेकर भी सुर्खियों में रह चुके हैं. उन्होंने सेना के मनोचिकित्सकों को ये तस्वीर भेज कर अपनी मनोदशा बताई थी.

मैनिंग ने कहा है कि, वो समझते हैं कि उनकी हरकतों की वजह से उन्हें बड़ी क़ीमत चुकानी पड़ सकती है. हालांकि उन्हें उम्मीद है कि वो एक दिन यूनिवर्सिटी भी जा पाएंगे और अपने परिजनों से भी एक साकारात्मक रिश्ता निभा पाएंगे.

ब्रैडली मैनिंग के मामले में सज़ा निर्धारित करने के लिए की जा रही सुनवाई में ये अनुमान लगाने की कोशिश की जा रही है कि विकीलीक्स के खुलासों से कितना नुकसान पहुंचा है.

अभियोग पक्ष ने उन गवाहों को सुनवाई के लिए बुलाया जिन्होंने बताया कि इन खुलासों का अमरीका के राजनयिक रिश्तों पर कितना असर पहुंचा है.

ब्रैडली मैनिंग ने कहा है कि उनका मक़सद अमरीका की सुरक्षा को हानि पहुंचाना कभी नहीं था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार