बांग्लादेश और नेपाल में भी रुला रहे हैं प्याज़ के दाम

प्याज़, बांग्लादेश

इन दिनों प्याज़ की बढ़ती कीमतों से सिर्फ़ भारत ही नहीं बल्कि उसके पड़ोसी देश नेपाल और बांग्लादेश में भी आमलोग बेहाल हैं.

इसकी एक बड़ी वजह यह है कि ये दोनों देश भारत से बड़ी मात्रा में प्याज़ का आयात करते हैं.

इन देशों में प्याज़ की स्थिति को लेकर बीबीसी हिन्दी ने बीबीसी नेपाली सेवा के सुरेंद्र फुयाल और बीबीसी बांग्ला सेवा की फ़रहाना परवीन से बात की.

नेपाल

काठमांडू से बीबीसी नेपाली सेवा के सुरेन्द्र फुयाल ने बताया कि प्याज़ और सब्जी जैसी चीज़ें बड़ी मात्रा में भारत से नेपाल आती हैं. इस समय बाज़ार में भारत से कम प्याज़ आ रहा है. इसीलिए नेपाल में प्याज़ की कीमत 300 प्रतिशत तक बढ़ गई है.

भूटान और तिब्बत से थोड़ी प्याज़ आ रहा है लेकिन वो नेपाल की ज़रूरतों के लिए पर्याप्त नहीं है.

उपभोक्ता कह रहे हैं कि पहले प्याज़ काटने से आँखों में में आँसू आते थे अब प्याज़ के दाम सुनकर आँख में आँसू आ रहे हैं.

Image caption भारत में हाल के दिनों में प्याज़ के दाम तेजी से बढ़े हैं

बढ़ी कीमतों की मार खास तौर से ग़रीब लोग पर पड़ रही है जो महँगी सब्जियाँ नहीं खरीद सकते.

प्याज़ को लेकर लोगों की चिंता बढ़ रही है हालांकि सरकार की ओर से इस समस्या से निपटने के बारे में किसी तरह के कदमों की घोषणा नहीं की गई है.

प्याज़ और सब्जियों की कीमत बढ़ने के बारे में अगर कोई चिंता जताता है तो सरकार कहती है कि वह बाज़ार का नजर रखे हुए है और वह मूल्य वृद्धि कम करने के लिए सब कुछ कर रही है.

बांग्लादेश

ढाका से बीबीसी बांग्ला सेवा की फ़रहाना परवीन बताती हैं कि बांग्लादेश में एक हफ्ते पहले तक प्याज़ की कीमत 45-50 टका किलो थी. अब प्याज़ के दाम बढ़कर दोगुना हो गए हैं.

दुकानदारों और व्यवसायियों का कहना है कि ईद और हड़ताल होने के कारण प्याज़ ढाका तक नहीं पहुँच पाया है इसलिए दाम बढ़ा है.

वहीं बांग्लादेश के आयातक कह रहे हैं भारत सरकार की नई निर्यात नीतियों के कारण प्याज़ के दाम बढ़े हैं.

बांग्लादेश सरकार ने कहा है कि वो भारत और म्यांमार से 5 मीट्रिक टन प्याज़ खरीदेगा.

बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें)

संबंधित समाचार