मैं औरत बनना चाहता हूँ: ब्रैडले मैनिंग

Image caption मैनिंग ने कहा है कि वह अपनी आगे की ज़िंदगी चेल्सी के रूप में जीना चाहते हैं.

विकीलीक्स वेबसाइट को अमरीकी सरकार को ख़ुफिया दस्तावेज मुहैया कराने वाले अमरीकी सैनिक ब्रैडले मैनिंग ने कहा है कि वे औरत बनना चाहता है.

टीवी चैनल एनबीसी के कार्यक्रम टुडे प्रोग्राम में उन्होंने कहा कि "मैं चेल्सी मैनिंग हूं. मैं एक औरत हूं."

इस बीच अमरीकी सेना से मिले एक फ़ाइल फोटो में ब्रैडले को विग और लिपस्टिक में देखा जा सकता है. यह तस्वीर उन्होंने 2010 में सेना में अपने एक सीनियर को भेजी थी.

उन्होंने कहा कि उन्हें बचपन से ही खुद के औरत होने का एहसास था और वह एक समय वह हार्मोन थेरेपी शुरू करने और चेल्सी के रूप में पहचाने जाने की इच्छा रखते थे.

उन्हें जासूसी सहित दूसरे अपराधों के लिए 35 साल की सज़ा दी गई है.

दिमाग़ी सेहत

Image caption ब्रैडले मैनिंग ने यह तस्वीर 2010 में सेना में अपने एक सीनियर को भेजी थी.

चिकित्सकों सहित बचाव पक्ष के दूसरे गवाहों ने गवाही दी कि वह एक औरत बनने के लिए लिंग परिवर्तन कराना चाहते थे. इस आधार पर कहा गया कि लैंगिक पहचान को लेकर मैनिंग की समस्या से उसकी मानसिक स्थिति प्रभावित हुई.

इस बीच अमरीकी सेना के वकील ने मैनिंग को देशद्रोही बताया है और कहा है कि भविष्य में ख़ुफ़िया सूचनाओं की चोरी को रोकने के लिए उसे 60 साल कैद की सज़ा दी जानी चाहिए.

मैनिंग को 20 आरोपों में दोषी पाया गया और 35 साल जेल की सज़ा सुनाई गई. उन्हें अधिकतम 90 साल की सज़ा हो सकती है.

उनके माता-पिता के बीच 1990 के दशक में अनबन शुरू हुई और साल 2000 में दोनों के बीच तलाक़ हो गया. सूसन अपने बेटे को लेकर वेल्स आ गईं.

मैनिंग 2007 में अमरीकी सेना में शामिल हुए और उन्हें इराक भेजा गया. मई 2010 में उन्होंने विकीलीक्स को गोपनीय दस्तावेज़ लीक किए और फिर गिरफ़्तार कर लिए गए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार