सीरिया संकटः रूस ने दी 'विनाशकारी' नतीजे की चेतावनी

Image caption सीरिया में हुए कथित रासायनिक हमले के बाद पीड़ित लोगों से यूएन के अधिकारी मिल रहे हैं.

अमरीका और उसके सहयोगी देशों की ओर से सीरिया पर हमला करने के बारे में जारी विचार-विमर्श के बीच रूस ने कहा है कि सैन्य हस्तक्षेप का नतीजा क्षेत्र के लिए 'विनाशकारी' हो सकता है.

पिछले सप्ताह सीरिया में हुए कथित रासायनिक हमले के बाद अमरीका इस संकट के समाधान के लिए सैन्य विकल्प पर विचार कर रहा है. अमरीका के विदेश मंत्री जॉन केरी ने सोमवार को कहा कि रासायनिक हमले के 'अकाट्य' प्रमाण मिले हैं.

इसके बाद रूस के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता एलेक्जेंडर लुकाशेविच ने मंगलवार को कहा कि इस संकट पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय को 'समझदारी' दिखाने के साथ अंतरराष्ट्रीय कानूनों का पालन करना चाहिए.

रूस से बातचीत टली

उन्होंने कहा, ''क्षेत्र में सैन्य हस्तक्षेप का कृत्रिम आधार बनाने के लिए एक बार फिर सुरक्षा परिषद को दरकिनार करने की कोशिश की जा रही है, जिससे सीरिया में नए संकट पैदा होंगे और मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका को विनाशकारी परिणाम झेलने पड़ेंगे.''

Image caption अमरीका ने सीरिया के मसले पर रूसी राजनयिकों के साथ हेग में होने वाली बैठक स्थगित कर दी है.

इससे पहले सोमवार को अमरीका ने कहा था कि उसने सीरिया के मसले पर रूसी राजनयिकों के साथ बैठक स्थगित कर दी है. उसका कहना था कि सीरिया में कथित रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल पर जारी 'विचार-विमर्श' के कारण बातचीत स्थगित कर दी गई है.

इसके कुछ ही घंटे के बाद रूस ने अमरीका के इस फैसले पर खेद जताया. दोनों पक्षों को संकट के राजनीतिक समाधान के बारे में विचार करने के लिए बुधवार को हेग में मिलना था.

आपात योजना

इस बीच ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन के प्रवक्ता ने कहा कि सीरिया में हुए रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के जवाब में उनका देश एक आपात योजना पर काम कर रहा है. प्रवक्ता ने कहा कि कैसी कार्रवाई होगी, इस बारे में फैसला लेने के लिए विचार-विमर्श जारी है, हालांकि उन्होंने कहा कि कोई भी प्रतिक्रिया संतुलित होगी.

उन्होंने कहा कि इस बारे में मंगलवार को घोषणा की जा सकती है या फिर इस संकट पर चर्चा के लिए संसद की बैठक बुलाई जा सकती है.

इससे पहले अमरीका के एक बयान में रासायनिक हमले की जांच के लिए निरीक्षकों को अनुमति देने के सुझाव का मज़ाक उड़ाया गया है. इसमें कहा गया है कि संभव है कि साक्ष्यों को पहले ही नष्ट कर दिया गया हो.

अमरीका और सहयोगी देश हुए कठोर

Image caption कैमरन के प्रवक्ता ने कहा कि सीरिया संकट पर उनका देश एक आपात योजना पर काम कर रहा है

कुल मिलाकर अमरीका और उसके सहयोगी देश सीरिया की सरकार के प्रति अधिक कठोर हो गए हैं.

अमरीका अब इसे लेकर पूरी तरह आश्वस्त है कि सीरिया में पिछले सप्ताह हुई मौतें रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल से हुईं और ये हमले राष्ट्रपति बशर अल-असद की सरकार ने कराए हैं.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को कई सैन्य विकल्प सुझाए गए हैं और इस बारे में उन्होंने अपने मुख्य सैनिक साझीदार ब्रिटेन और फ्रांस के नेताओं से बात की है.

इस क्षेत्र में अमरीका के तीन युद्धपोत मौजूद हैं और दूसरे युद्धपोत क्षेत्र की ओर बढ़ रहे हैं.

अमरीकी कांग्रेस में कई लोग सीमित क्रूज मिसाइल हमले के पक्ष में हैं. ऐसे में सभी संकेत एक ओर ही इशारा कर रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकतें हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार