'मां बाप से पैसे निकलवाना सबसे मुश्किल रहा'

क्वर्की

अमरीकी तकनीकी कंपनी क्वर्की के संस्थापक बेन कॉफमैन को पैसों का जुगाड़ करने के लिए अपनी मां और पिता को घर गिरवी रखने के लिए मनाना पड़ा था.

कॉफमैन ने स्कूल के दिनों में काम शुरू कर दिया था. उन्होंने आईफ़ोन के लिए एक्ससरीज़ बनाने का काम शुरू किया और फिर लोकप्रिय मोफी बैटरी बनाने में कामयाब रहे.

तकनीक को आम आदमी कर पहुंचाने के लिए उन्होंने अपनी कंपनी क्वर्की की शुरुआत की.

26 साल के कॉफमैन का कहना है कि उन्हें अपने माता-पिता को घर गिरवी रखने के लिए मनाने में काफी मेहनत करनी पड़ी थी.

उन्होंने कहा, "उसके बाद से मैं बहुत पैसा जुटा चुका हूं. मैं मजाक में कहता हूं कि मुझे सबसे ज्यादा मेहनत अपने माता-पिता से पैसा निकालने में करनी पड़ी थी. उन्होंने मुझे बिजनेस प्लान लिखकर देने को कहा."

पहला विचार

किशोरावस्था में ही वह अपनी बिजनेस योजना को लेकर चीन पहुंचे. उनकी योजना एक ऐसी डोरी बनाने की थी जो उनके आईपॉड के हैडफ़ोन को छिपा सके ताकि वो आराम से गणित की कक्षा में संगीत का आनंद ले सकें और किसी को पता भी न चल सके.

कॉफमैन ने कहा, "48 घंटे की इस यात्रा में ही मेरी समझ में आ गया कि जो बाधा में मेरे रास्ते में हैं उनका पैसे से कोई लेना देना नहीं है. दरअसल किसी योजना को अमली जामा पहनाना बहुत जटिल काम है."

उन्होंने कहा कि चीन में सब कुछ उनकी योजना के हिसाब से हुआ लेकिन मौजूदा काम का विचार उनके मन में सबसे पहले चीन में आया.

कॉफमैन ने 2007 में मोफी को बेचकर क्वर्की की शुरुआत की. कंपनी ने दिन दूनी रात चौगुनी प्रगति की.

कॉफमैन मज़ाक में कहते हैं, "हर छह महीने में लगता है कि मैं अलग कंपनी चला रहा हूं. लोगों की संख्या बढ़ रही है, जिम्मेदारियां बढ़ रही हैं और उत्पाद बढ़ रहे हैं."

आइडिया

हर दिन दुनियाभर में लोग क्वर्की की वेबसाइट पर बिजनेस आइडिया डालते हैं जहां उनसे दो सवाल पूछे जाते हैं. पहला यह कि आप किस समस्या को सुलझाना चाहते हैं और दूसरा आप ऐसा ये काम कैसे करना चाहते हैं?

हर गुरुवार को कंपनी में एक बैठक होती है जिसका ऑनलाइन प्रसारण होता है. इस दौरान क्वर्की कम्युनिटी सर्वश्रेष्ठ आइडिया के लिए वोट करती है.

इसके बाद सफल आइडिया को क्वर्की के 150 इंजीनियरों और प्रोडक्ट डिजाइनरों को भेजा जाता है जो कागज़ी परियोजना को अमली जामा पहनाने का काम करते हैं.

उत्पाद के सफल होने पर मुनाफ़े का दस प्रतिशत खोजकर्ता और इसके लिए वोट देने वाले क्वर्की कम्युनिटी के सदस्यों को दिया जाता है.

जायज़

मुनाफ़े में खोजकर्ता का हिस्सा कम लग सकता है लेकिन कॉफमैन इसे जायज़ ठहराते हुए तर्क देते हैं कि चूंकि कंपनी सभी जोखिम उठाती है इसलिए इसमें कोई बुराई नहीं है.

क्वर्की अब तक 4,80,000 से अधिक कम्युनिटी सदस्यों से इनपुट लेकर 380 से अधिक उत्पाद बना चुकी है.

इनमें सबसे ज्यादा चर्चित 'पिवट पावर' है. कंपनी का दावा है कि यह दुनिया का पहला लचीला पावर सॉकेट एक्सटेंशन सिस्टम है.

कॉफमैन ने कहा कि वह अब भी निवेशकों को यह भरोसा दिलाने का प्रयास कर रहे हैं कि क्वर्की एक महत्वाकांक्षा नहीं है बल्कि यह एक बिजनेस संभावना है.

माना जाता है कि क्वर्की ने वेंचर फंडिंग से नौ करोड़ डॉलर की अधिक की राशि जुटाई है और इसके कई उत्पाद अमरीकी बाज़ार में सफल रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार