क्या जेल में आत्महत्या को रोका जा सकता है?

  • 8 सितंबर 2013
केलिफ़ोर्निया जेल

दिल्ली गैंग रेप घटना के एक अभियुक्त राम सिंह जेल में मृत पाए गए थे. पुलिस का कहना था कि उन्होंने आत्महत्या कर ली हालांकि परिवारवाले हत्या का आरोप लगा रहे हैं. वैसे दुनिया भर में जेल में आत्महत्या की कई घटनाएँ होती हैं.

अमरीका में तीन महिलाओं का अपहरण कर उनके साथ बलात्कार करने के दोषी एरियल कास्त्रो ने पिछले दिनों जेल में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली.

इन घटनाओं की कथित जांच कराकर मामले को लगभग भुला दिया जाता है.

लेकिन सवाल उठता है कि क्या जेलों को सुसाइड प्रूफ़ यानि आत्महत्या मुक्त नहीं बनाया जा सकता?

मुश्किल

अमरीकी जेलों में आत्महत्या रोकने पर काम करने वाले जाने-माने विशेषज्ञ लिंडसे हायेस का कहना है, ''आप क़ैदियों की नज़र से बचते हुए एक सेल की जितनी सुरक्षा कर सकते हैं उतनी सुरक्षा करने की कोशिश करते हैं और क़ैदियों के पास मौजूद विभिन्न चीज़ों पर नज़र रखते हैं. लेकिन वे 24वों घंटे सेल में रहते हैं और उनके पास आत्महत्या करने के विभिन्न तरीक़ों के बारे में सोचने के लिए भरपूर समय होता है.''

उनका कहना है कि किसी भी जेल की हर सेल को आत्महत्या मुक्त नहीं बनाया जा सकता है.

ऐसे में यह ध्यान रखना होगा कि आत्महत्या कर सकने वाले क़ैदियों के पास ऐसी कोई चीज़ न हो जिसे वे फंदे के लिए इस्तेमाल कर सकें.

हायेस कहते हैं, ''आप हर क़ैदी से कपड़े और बिछावन नहीं छीन सकते, लेकिन अगर किसी क़ैदी की पहचान आत्महत्या संभावित के रूप में हुई हो तो आप उसे सुरक्षा चोगे में रख सकते हैं. इसके साथ ही यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि उसके पास कुछ ख़ास चीज़ें न पहुंचे.''

एरियल कास्त्रो ने भी अमरीकी जेल में ख़ुदकुशी कर ली थी.

यह सुरक्षा चोगे बहुत भारी और मोटे तिरपाल जैसे पदार्थ से बने होते हैं और इनका फंदे के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है.

लेकिन, आत्महत्या कर सकने वाले क़ैदियों को फंदे के अलावा ऐसी चीज़ों की भी तलाश रहती हैं जिनसे वो फंदे को लटका सकें.

रोशनी और हवा के लिए आमतौर पर एक सेल की दीवारों में चार खिड़कियां होती हैं.

अमरीका की जेलों में एक तिहाई आत्महत्याएं इन्हीं खिड़कियों की सहायता से की जाती है.

'नेशनल सेंटर ऑन इंस्टीट्यूसंस एंड अल्टरनेटिव' के प्रोजेक्ट डायरेक्टर हायेस का कहना है कि सुसाइड रेज़िस्टेंट बनाने के लिए इन खिड़कियों में लगे ग्रिल्स में 0.18 इंच से अधिक चौड़े छेद नहीं होने चाहिए ताकि कैदी इनमें कुछ फंसा न सके.

इसके अलावा सेल में लगे बेड मोल्डेड प्लास्टिक से या फिर कंक्रीट स्लैब से बने होने चाहिए.

इनके कोर गोलाकार होने चाहिए और ये दीवार से नट-बोल्ट के ज़रिए स्थिर किए गए होने चाहिए, जिससे कि आत्महत्या करने वाले क़ैदी इसका इस्तेमाल सहारे के लिए न करें.

अमरीका की जेलों में 90 फ़ीसदी आत्महत्याएं फंदा लगाकर की जाती हैं जबकि 10 फ़ीसदी आत्महत्याओं में अवैध तरीक़े से जेल के अंदर लाए गए धारदार उपकरणों या ड्रग्स का इस्तेमाल किया जाता है.

वैसे बेहतर शोध, प्रशिक्षण और निगरानी के ज़रिए आत्महत्या की दर में कमी आई है.

साल 2010 में अमरीका की जेलों में यह दर प्रति एक लाख क़ैदियों पर 42 थी जबकि साल 1986 में यह दर 107 थी.

पिछले दो दशक से यह 15 से 20 के बीच स्थिर है.

दिल्ली गैंगरेप के अभियुक्त राम सिंह भी तिहाड़ जेल में मृत पाए गए

अमरीकी लोगों में आत्महत्या की दर एक लाख पर 12 है.

इंग्लैंड में ज़्यादा

इंग्लैंड की जेलों में आत्महत्या की दर अधिक है. हाल ही में सीरियल किलर हारोल्ड शिपमैन और फ्रेट वेस्ट ने आत्महत्या कर ली थी.

साल 2008 से 2010 के बीच यह दर प्रति एक लाख पर 71 थी, जबकि साल 2004 में प्रति एक लाख क़ैदियों में से 130 ने आत्महत्या की थी.

'इंटरनेशनल एसोसिएशन फॉर सुसाइड प्रिवेंशन' के सदस्य और मैरीलैंड के एक मनोवैज्ञानिक अनासेरिल डेनियल का कहना है कि आप जो भी उपाय कर लीजिए, आत्महत्या पर उतारू क़ैदी कोई न कोई तरीक़ा खोज ही लेता है.

उन्होंने कहा, ''मैंने कई ऐसी स्थितियां देखी हैं जहां पर आत्महत्या में इस्तेमाल की जा सकने वाली तमाम चीज़ों को हटा दिए जाने के बावजूद आत्महत्या पर उतारू लोगों ने ऐसा कर लिया.''

डॉ. डेनियल कहते हैं कि जेलों में बहुत चालाकी से आत्महत्याएं की जाती हैं.

क़ैदी आत्महत्या से पहले आमतौर पर ऐसा कोई संकेत नहीं देते जबकि अमरीका में आत्महत्या करने वाले 90 फ़ीसदी लोग अवसाद से ग्रसित होते हैं.

जेलों में आत्महत्या करने वाले केवल दो-तिहाई क़ैदियों में ही ऐसा लक्षण दिखता है.

उनका कहना है कि जेलों में आत्महत्या रोकने का सबसे बेहतर तरीक़ा निगरानी है.

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा? डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार