सीरिया पर अमरीकी संसद में मतदान टला

  • 11 सितंबर 2013
ओबामा, मतदान, कांग्रेस
Image caption सीरिया पर अमरीकी संसद में होने वाला मतदान टाल दिया गया है.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने सीरिया में सैन्य कार्रवाई के मसले पर अमरीकी संसद में होने वाला एक मतदान टाल दिया है.

इस बीच सीरिया में मानवाधिकारों के उल्लंघन पर संयुक्त राष्ट्र की ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि बड़े पैमाने पर अत्याचार और बलात्कार हो रहे हैं और दोनों पक्ष युद्ध अपराध कर रहे हैं.

यह रिपोर्ट मध्य जून से जुलाई के बीच की घटनाओं पर आधारित है. तब तक संयुक्त राष्ट्र के जाँच दल को सीरिया में प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई थी.

इस रिपोर्ट में प्रत्यक्षदर्शियों के साक्षात्कार, वीडियो और सैटेलाइट से प्राप्त फोटो को प्रकाशित किया जा रहा है.

एक जांच आयोग ने पाया कि सरकारी बलों ने आम नागरिकों की हत्या की, अस्पतालों पर बमबारी की और मई से जुलाई के बीच बड़ी तादाद में क्लस्टर बमों का इस्तेमाल किया.

रिपोर्ट में कहा गया है कि विद्रोही भी लोगों को मार रहे हैं.

सीरिया ने पहली बार माना है कि उसके पास हथियार हैं और वो हथियारों के इस जखीरे को सौंपने की रूस की योजना पर राज़ी हो गया है.

Image caption संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि सीरिया में दोनों पक्ष लोगों की हत्याएं कर रहे हैं.

अमरीका ने पिछले महीने एक रासायनिक हमले में सैकड़ों लोगों की मौत के बाद हमले की धमकी दी थी.

अमरीका-रूस की बातचीत से पहले रिपोर्ट

ओबामा ने सीरिया पर वोट टलने की जानकारी देते हुए कहा, "मैं गुरुवार को विदेश मंत्री जॉन केरी को रूस के विदेश मंत्री से मिलने के लिए भेज रहा हूं और मैं राष्ट्रपति पुतिन से भी बातचीत जारी रखूंगा."

हालांकि ऐसा लगता है कि ओबामा अब भी सीमित सैन्य कार्रवाई के पक्ष में हैं.

उन्होंने कहा, "सीमित सैन्य कार्रवाई भी असद को वो संदेश देगी जो कोई और देश नहीं दे सकता."

इससे पहले ओबामा ने सीरिया सरकार को दोषी ठहराया था और कहा था कि बातचीत नाकाम होने पर सैन्य कार्रवाई होगी.

सीरिया सरकार ने इस हमले के लिए विद्रोहियों को ज़िम्मेदार ठहराया था.

साल 2011 में राष्ट्रपति बशर-अल-असद के खिलाफ विद्रोही शुरू होने के बाद से 1 लाख से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

संयुक्त राष्ट्र की ताज़ा रिपोर्ट अमरीका के विदेश मंत्री जॉन केरी की रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव से होने वाली मुलाकात के एक दिन पहले जारी की गई है.

उनकी मुलाकात सीरिया में जारी संघर्ष और रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल पर कार्रवाई के सिलसिले में हो रही है.

'कोई सैन्य समाधान नहीं'

संयुक्त राष्ट्र के जाँचकर्ताओं ने कहा है कि सीरिया में रासायनिक हमलों के आरोप लगे हैं लेकिन अभी उपलब्ध सबूतों के आधार पर ये कहना संभव नहीं है कि वहाँ हमले में किस रसायन का इस्तेमाल किया गया.

लेकिन जांचकर्ताओं ने कहा है कि उनके पास उन व्यक्तियों की एक लंबी सूची है जो युद्ध अपराधों में शामिल रहे हैं और उनको अदालत के सामने पेश किया जाना चाहिए.

अमरीका और रूस के राजनयिकों को जेनेवा में होने वाली मुलाकात से पहले संदेश देते हुए जाँच कर्ताओं ने ज़ोर देकर कहा है, "सीरिया समस्या का कोई सैन्य समाधान नहीं है. जो हथियारों की आपूर्ति करते हैं वो सिर्फ़ जीत का भ्रम पैदा करते हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकतें हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार