और सीधा हुआ 'कोस्टा कॉनकॉर्डिया'

कोस्टा कॉनकॉर्डिया

इटली के इंजीनियरों ने 20 महीने से समुद्र में फंसे कोस्टा कॉनकॉर्डिया क्रूज़ जहाज़ को सीधा खड़ा कर दिया है.

इंजीनियरों के मुताबिक़ कोस्टा कॉनकॉर्डिया को बचाने का यह अपनी तरह का सबसे बड़ा ऑपरेशन था.

यह अभियान सोमवार को शुरू किया गया था और यह पूरी रात चलता रहा. इस दौरान तारों और पानी से भरे धातु के बक्सों की मदद से जहाज़ को समुद्र में बनाए गए प्लेटफॉर्म पर लाया गया.

जनवरी 2012 में गिग्लियो द्वीप के टस्कन तट पर जहाज़ पलटने से 32 लोगों की मौत हो गई थी. इनमें से दो लोगों के शव कभी नहीं मिल पाए.

उम्मीद की जा रही है कि शायद इस ऑपरेशन के दौरान उनके शव मिल जाएंगे.

मंगलवार सुबह क़रीब चार बजे जहाज़ को सीधा खड़ा करने का काम पूरा होने की घोषणा की गई.

प्लेटफॉर्म

इतालवी नागरिक सुरक्षा प्राधिकरण के प्रमुख फ्रेंको गेब्रिएली ने कहा कि जहाज़ समुद्र में बनाए गए प्लेटफॉर्म पर खड़ा है.

कॉनकॉर्डिया का मालिकाना हक़ रखने वाली कंपनी कोस्टा क्रोसिएयर स्पा के प्रोजेक्ट मैनेजर फ्रेंको पोर्सलाचिया ने कहा, "यह एक शानदार अभियान था."

उन्होंने कहा कि जहाज़ से अभी तक किसी तरह के रिसाव का पता नहीं चला है जिससे कि पर्यावरण को नुकसान हो. इस संभावना से बचने के लिए सभी उपाय किए गए थे.

टाइटैनिक से दोगुना वज़न वाला यह जहाज़ चट्टानों में फंसा था जिसे वहां से निकालकर समुद्र की सतह पर बने प्लेटफ़ॉर्म पर लाया गया.

जहाज़ को चट्टान से निकालने के लिए 50 से अधिक ज़ंजीरों और चरखियों का इस्तेमाल किया गया.

मैराथन अभियान

इस मैराथन अभियान के दौरान जहाज़ धीरे-धीरे समुद्र से ऊपर उठा और उसके समुद्र में डूबे हिस्से पर पानी के निशान को साफ देखा जा सकता था.

इंजीनियरों ने सोमवार शाम तक इस अभियान को पूरा करने को योजना बनाई थी लेकिन तूफान के कारण इसमें तीन घंटे की देरी हुई.

जहाज़ के पेंदे को और नुकसान होने से बचाने के लिए इस काम को सावधानी से धीरे-धीरे अंजाम दिया गया. जहाज़ पानी में 15 मीटर डूबा हुआ था.

अधिकारियों की योजना अब इस जहाज़ का बारीकी से मुआयना करने के बाद अगला कदम उठाने की है. दूसरे चरण में जहाज़ की मरम्मत की जाएगी और फिर इसे खींचकर किनारे ले जाकर ठिकाने लगा दिया जाएगा.

इंजीनियरों ने अभी तक किसी 951 फ़ीट लंबे जहाज़ को निकालने का काम नहीं किया था.

दोषी

कोस्टा कॉनकॉर्डिया हादसे में पांच लोगों को गैर इरादतन हत्या का दोषी करार दिया गया है और जहाज़ के कप्तान फ्रांसेस्को शेटिनो पर हत्या और जहाज़ छोड़ने के मामले में मुक़दमा चल रहा है.

गिग्लियो के मेयर सर्गियो ऑर्टेली ने कहा है कि जहाज़ को हटाने से उनके बंदरगाह की इस बड़ी समस्या का अंत हो जाएगा और जिसे वो जल्द से जल्द हल करना चाहते थे.

रविवार को द्वीप पर सामूहिक प्रार्थना के दौरान जहाज़ को बचाने के लिए चल रहे ऑपरेशन के सफल होने की दुआ की गई.

इस छोटे से द्वीप की अर्थव्यवस्था पर्यटन पर निर्भर है. तट पर जहाज़ का मलबा मौजूद होने की वजह से यहां लोगों की आवाजाही कम हो गई थी.

जहाज़ के बचाव के लिए चल रहे इस अभियान पर अब तक 60 करोड़ यूरो ख़र्च हो चुके हैं और अभी इसमें और लागत आने की संभावना है.

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा? डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार