रूस को मनाने में नाकाम रहा फ़्रांस

सीरिया, फ्रांस, रूस, विदेशमंत्री, बैठक, सर्गेई लावरोव, लॉरांग फेबियुस

सीरिया में रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल पर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के बाद संभावित सैन्य कार्रवाई को लेकर फ्रांस रूस को मनाने में नाकामयाब रहा है. मॉस्को में बैठक के बाद रूसी विदेशमंत्री ने साफ कहा है कि वो सीरिया पर सैन्य कार्रवाई के हक में नहीं है.

रूस का कहना है कि अगर संयुक्त राष्ट्र संघ सीरिया के ख़िलाफ़ किसी कड़ी कार्रवाई का प्रस्ताव पारित करता है तो वो इससे राज़ी नहीं होगा. रूस का यह बयान अमरीका के साथ उसके हालिया समझौते और फ़्रांस और ब्रिटेन की तरफ़ से दबाव के बाद सामने आया है.

मॉस्को में हुई दोनों देशों की बैठक में रूसी विदेशमंत्री सर्गेई लावरोव ने साफ़ कहा कि ज़हरीली गैस सारिन का इस्तेमाल सीरिया में विद्रोही गुटों की तरफ़ से किया गया.

एक दिन पहले ही संयुक्त राष्ट्र ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि सीरिया की राजधानी दमिश्क के पास बड़े पैमाने पर रॉकेटों के ज़रिए सारिन गैस छोड़ी गई थी. हालांकि इस रिपोर्ट में किसी भी पक्ष को ज़िम्मेदार नहीं ठहराया गया था.

मतभेद

मॉस्को में फ़्रांस के विदेशमंत्री लॉरांग फ़ेबियुस के साथ मुलाकात के बाद रूसी विदेशमंत्री ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव में सीरिया के ख़िलाफ़ सैन्य कार्रवाई का विकल्प नहीं होना चाहिए.

Image caption सीरिया के ख़िलाफ़ संयुक्त राष्ट्र की संभावित सैन्य कार्रवाई के लिए रूस तैयार नहीं है.

उनका कहना था, ‘हम चाहते हैं कि 21 अगस्त की घटना की पूरी तरह से निष्पक्ष आंकलन होना चाहिए. हमारे पास इस पर यक़ीन करने का ठोस आधार है कि ये भड़काऊ कार्रवाई थी. हमारे कुछ साथियों ने कहा है कि बिना शक केवल सरकार ही रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के लिए ज़िम्मेदार है. मगर सच सामने आना ज़रूरी है. और यह भविष्य में सुरक्षा परिषद के कामकाज की परीक्षा भी है.’

उधर, फ्रांस के विदेशमंत्री का कहना है कि उनका देश और रूस इस बात पर तो सहमत हैं कि सीरिया को लेकर कोई फ़ैसला होना चाहिए पर इस पर हमारी राय जुदा है कि इसका सही तरीका क्या होना चाहिए

‘सीरिया पर कार्रवाई को लेकर हमारे विचार अलग हैं. मगर इसके राजनीतिक समाधान के बारे में हम एकमत हैं. केवल इस उद्देश्य ही नहीं बल्कि इसके तरीके की खोज और राजनीतिक हल के लिए तुरंत रास्ता खोजे जाने पर भी हम एकराय हैं.’

रूसी विदेशमंत्री ने फ्रांसीसी विदेशमंत्री के इस बयान का समर्थन किया.

यूएन की बैठक

मगर सीरिया का सहयोगी रूस वहां किसी भी सैन्य कार्रवाई के ख़िलाफ़ है. सीरिया अभी तक पश्चिमी देशों की तरफ से रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल को लेकर चल रही कार्रवाई का विरोध करता रहा है.

इस बीच संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्यों न्यूयॉर्क में बैठक चल रही है. इसमें सीरिया के ख़िलाफ़ कार्रवाई को लेकर प्रस्ताव के ड्राफ़्ट पर चर्चा हो रही है. यह प्रस्ताव वॉशिंगटन, पेरिस और लंदन की तरफ़ से रखा गया है और इसका उद्देश्य अमरीका और रूस के बीच सीरिया को लेकर हुए समझौते को लेकर किसी योजना तक पहुंचना है.

इस बैठक में इस बात पर सदस्यों में काफ़ी मतभेद हैं कि सीरिया पर कार्रवाई में सैन्य हस्तक्षेप शामिल किया जाए या नहीं.

संबंधित समाचार