रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल किसने किया?

"संयुक्त राष्ट्र की ताज़ा रिपोर्ट से सीरिया में पिछले महीने ज़हरीली सारिन गैस के इस्तेमाल की पुष्टि तो हो गई है लेकिन रिपोर्ट में ये नहीं कहा गया है कि इसके लिए ज़िम्मेदार कौन है."

ये कहना है डॉक्टर एलेक्सांडर कोकर का जो 2003 में इराक़ में संयुक्त राष्ट्र के मुख्य हथियार निरीक्षक थे.

सोमवार को जारी की गई संयुक्त राष्ट्र हथियार निरीक्षकों की रिपोर्ट पेश में कहा गया है कि दमिश्क में पिछले महीने हुए रॉकेटों के जरिए सारिन गैस का इस्तेमाल किया गया.

इसके बाद अमरीका, ब्रिटेन और फ्रांस ने कहा है कि रिपोर्ट से उनका दावा सही साबित होता है कि इसके लिए सीरिया ज़िम्मेदार था.

लेकिन रूस ने कहा है कि हमले के लिए विद्रोहियों की ज़िम्मेदार ठहराने वाले दावों को भी नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता.

तो मुख्य सवाल यही है कि आखिर गैस वाले रॉकेट किसने छोड़े? सीरियाई सरकार ने या फिर सीरियाई विद्रोहियों ने?

बीबीसी के रेडियो फोर के 'न्यूज़आवर' कार्यक्रम में डॉक्टर एलेक्सांडर कोकर से इस बारे में बातचीत की गई.

आप इस रिपोर्ट से क्या निष्कर्ष निकालते हैं?

इस रिपोर्ट के बाद कोई शक़ नहीं रह जाता है कि सीरिया में सारिन गैस का इस्तेमाल हुआ था. सारिन गैस अस्थिर होती है और बहुत गर्म देश में ये वाष्पित हो जाती या उड़ जाती. लेकिन सीरिया में ख़ून के कई नमूनों में सारिन पाई गई. ये बात ही सारिन के इस्तेमाल को साबित कर देती है.

लेकिन इस गैस को किसने बनाया, इसके बारे में हम रिपोर्ट के आधार पर निश्चित तौर पर कुछ नहीं कह सकते.

सारिन को संरक्षित रखने के लिए खास पदार्थ मिलाया जाता है ताकि वो उड़े ना. कोई भी सेना सारिन गैस को लंबे समय तक रखना चाहेगी, पता नहीं कब उसका इस्तेमाल करना पड़े.

सारिन को संरक्षित रखने का काम सामान्यत: ये काम सेना ही करेगी.

हो सकता है कि सीरिया में मिली गैस में भी उसे स्थिर और संरक्षित करने वाले रसायन मिलाए गए हों लेकिन जो मैंने रिपोर्ट में देखा है उससे ये बात दावे से नहीं कहा जा सकती कि सारिन में ये रसायन मिले थे.

Image caption संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में सीरिया में रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल की पुष्टि हुई है.

जिस तरह से गैस छोड़ी गई, क्या उससे किसी नतीजे पर पहुंचा जा सकता है? रिपोर्ट में कहा गया है कि गैस छोड़ने के लिए तकनीकी रूप से काफ़ी परिष्कृत रॉकेटों का इस्तेमाल किया गया था.

इस गैस को रॉके़टों के ज़रिए छोड़ा गया था जो इस ओर इशारा करता है कि इसका इस्तेमाल सेना ने किया. लेकिन ये बात इतनी सीधी नहीं है क्योंकि गैस छोड़ने के लिए किसी मिसाइल नहीं, बल्कि साधारण रॉकेटों का इस्तेमाल किया गया था.

ये काम कोई संगठित गुट भी कर सकता है. रॉकेट का इस्तेमाल इस ओर ज़रूर इशारा करता है कि ये ऐसी सरकार भी कर सकती है जिसके पास हथियार बनाने की क्षमता है लेकिन फिर भी हम निश्चित तौर पर ये नहीं कह सकते कि ये एक गुट का काम है.

संयुक्त राष्ट्र में अमरीकी राजदूत ने कहा कि यूएन रिपोर्ट में 122 मिमी रॉकेट की बात कही गई है और अमरीका इसे सीरिया के पिछले प्रशासन में हुए हमलों से जोड़ता है.

इस तरह का रॉकेट बहुत आम है. ये कोई बहुत दुर्लभ रॉकेट नहीं हैं.

रॉकेट किस दिशा से छोड़े गए होंगे, रिपोर्ट में इस बारे में ज़िक्र है. क्या उससे किसी नतीजे पर पहुंचा जा सकता है?

मुझे इस बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है इसलिए मैं कुछ नहीं कह सकता लेकिन अमरीकियों के मुताबिक रॉकेट सीरियाई इलाके की तरफ़ से छोड़े गए थे.

ऐसे में आप सिर्फ़ यही पूरे दावे के साथ कह सकते हैं कि हमले में सारिन गैस का इस्तेमाल हुआ था क्योंकि नमूनों में सारिन गैस मिली है लेकिन इससे ज़्यादा आप कुछ भी पूरे दावे के साथ नहीं कह सकते.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार