सड़ रहे हैं इंग्लैंड के एक चौथाई बच्चों के दांत

  • 22 सितंबर 2013
बच्चों के दांतों में सड़न

इंग्लैंड में पांच साल की उम्र के एक चौथाई बच्चे दांतों के सड़ने की वजह से परेशानियों का सामना कर रहे हैं.

इंग्लैंड के सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग के एक सर्वेक्षण में पूरे देश में 1,33,000 बच्चों के दांतों की जांच की गई. यह पांच साल के सभी बच्चों का 21 प्रतिशत है.

सर्वेक्षण का निषकर्ष है कि पांच साल के 27 फीसद बच्चों के दांत सड़ रहे हैं. हालांकि यह साल 2008 में किये गए पुराने सर्वेक्षण के मुकाबले कम हैं जहां ये प्रतिशत 30 था.

ब्रिटिश डेंटल एसोसिएशन या बीडीए का कहना है कि सबसे अच्छे और सबसे ख़राब इलाकों के बीच अब भी "भारी फ़र्क" है.

रोज़ ब्रश दो बार

गरीब इलाकों में दांतों के सड़ने के मामले सबसे ज़्यादा हैं.

दक्षिण पूर्व में यह आंकड़ा 21.2 फीसद था तो उत्तर-पश्चिम में 34.8 प्रतिशत.

शोधकर्ताओं के अनुसार ब्राइटन और होव इलाकों में दांतों के सड़ने के मामले सबसे कम 12.5 फ़ीसद ही थे जबकि लीसेस्टर में यह 53.2 प्रतिशत थे.

दातों की सड़न दांतों पर प्लाक के जमा होने से होती है. प्लाक में रहने वाला विषाणु खाने और पीने में मिलने वाली शक्कर पर पलता है और एक एसिड पैदा करता है जो धीरे-धीरे दांत को नष्ट करने लगता है.

सामान्यतः दांत ख़राब खाने-पीने की वजह से सड़ते हैं लेकिन दांतों की उचित परवाह न करने से भी यह दिक्कत पैदा होती है, जैसे कि दांत ठीक से साफ़ न करने की वजह से और समय-समय पर उनकी जांच न करवाने से.

हालांकि दूध के दांत टूटने के बाद उन बच्चों में भी वयस्क दांत आते हैं जिनके दांतों में सड़न हो लेकिन अगर ख़राब आदतें जारी रहीं तो उन पर भी असर पड़ सकता है.

एक पांच साल के बच्चे के सामान्यतः 20 दूध के दांत होते हैं.

दांतों के सड़ने से परेशान बच्चों के सामान्यतः तीन से चार दांत प्रभावित होते हैं.

शोध में पाया गया कि तीन प्रतिशत बच्चों के सड़ रहे एक या ज़्यादा दांत निकलवाए गए हैं. यह एक कष्टदायक प्रक्रिया है.

इंग्लैंड के सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग के अनुसार 2008 के मुकाबले यह सुधार संभवतः बच्चों के टूथपेस्टों में फ़्लोराइड की मात्रा बढ़ने की वजह से आया है.

इंग्लैंड के सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग में स्वास्थ्य निदेशक प्रोफ़ेसर केविन फ़ेनटन का कहना है, "इस ताज़ा सर्वेक्षण के अनुसार दांतों की सड़न से प्रभावित बच्चों की संख्या कम हुई है लेकिन दांतों की सड़न को रोकने के लिए अभी बहुत काम करने की ज़रूरत है."

वह कहते हैं, "अभिभावकों को अपने बच्चों के दांत रोज़ दो बार कम से कम दो मिनट तक ब्रश करने चाहिए. एक तो सोने से पहले और दूसरे दिन में किसी वक्त."

"इसके अलावा जब तक बच्चा सात या आठ साल का न हो जाए तब तक उन पर ध्यान देना चाहिए. या तो आप उनके दांत साफ़ करें या फिर अगर वह खुद साफ़ कर रहे हों तो उन पर नज़र रखें."

इस साल अप्रैल से स्थानीय प्रशासन ने मुख-संबंधी स्वास्थ्य की ज़िम्मेदारी ले ली है.

स्वास्थ्य मंत्री लॉर्ड हॉवे कहते हैं, "हम जानते हैं कि मुख संबंधी स्वास्थ्य को पूरे देश में बेहतर करने के लिए काफ़ी काम करने की ज़रूरत है."

"हालांकि दुनिया में हमारे यहां दांतों के सड़ने के मामले सबसे कम हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार