रूस ने सीरिया में सैन्य निरीक्षक भेजने की पेशकश की

Image caption सीरिया के मसले पर रूस और अमरीका के बीच हुए समझौते के मुताबिक इसे क्रियांवित करने की दिशा में यह पहला कदम है.

रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरॉव ने कहा है कि उनका देश सीरिया के रासायनिक हथियारों को हटाने के लिए अपने सैन्यकर्मियों को वहां भेज सकता है.

एक रूसी टीवी चैनल से लावरॉव ने कहा कि रूस-अमरीका समझौते के मुताबिक सैन्य पर्यवेक्षक रासायनिक हथियारों को नष्ट करने में सहयोग कर सकते हैं. उन्होंने हालांकि अमरीका पर संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव को लेकर ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया.

द इंटरनेशनल केमिकल वीपंस वॉचडॉग यानी ओपीसीडब्ल्यू ने कहा है कि सीरिया ने अपने करीब 1000 टन रासायनिक हथियारों के बारे में विस्तृत जानकारी देने की समय सीमा को पूरा किया है.

सीरिया के मसले पर रूस और अमरीका के बीच हुए समझौते के मुताबिक इसे क्रियांवित करने की दिशा में यह पहला कदम है.

रूसी सरकार के समर्थक फर्स्ट चैनल से बातचीत में लावरॉव ने कहा कि इसके लिए भारी संख्या में रूसी सुरक्षा बलों की जरूरत नहीं है, केवल निरीक्षकों की एक टीम चाहिए.

मिशन

उन्होंने सुझाव दिया कि इस निगरानी मिशन में अरब के देश और तुर्की शामिल हो सकते हैं.

इसी बातचीत में लावरॉव ने अमरीका, ब्रिटेन और फ्रांस पर सीरिया में सत्ता बदलवाने के अपने मकसद को पूरा करने के लिए 'अंधे' हो जाने का आरोप लगाया.

उन्होंने कहा कि पश्चिम देश सीरिया के रासायनिक हथियारों को खत्म करने के समझौते पर तब तक आगे नहीं बढ़ने की धमकी दे रहे हैं जब तक कि रूस राष्ट्रपति बशर अल- असद की सरकार के खिलाफ़ सैन्य कार्रवाई के लिए संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव का समर्थन नहीं करता.

सीरिया के प्रमुख सहयोगी रूस सुरक्षा परिषद में ऐसे कई प्रस्तावों को रूकवाने में सफलता हासिल की है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के यहाँ क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार