कीनिया: रसायनों के इस्तेमाल पर विवाद

कीनिया, नैरोबी, महिला
Image caption कीनिया में अब तक पांच चरमपंथियों के मारे जाने की पुष्टि हुई है.

कीनिया की राजधानी नैरोबी के वेस्टगेट मॉल में हुए चरमपंथी हमले की जांच के लिए अमरीका, ब्रिटेन,जर्मनी और इंटरपोल सहयोग कर रहे हैं.

कीनिया के आंतरिक मंत्री जोसेफ़ ओल लेंकू ने कहा है कि फॉरेंसिक विशेषज्ञ वेस्टगेट शॉपिंग कॉम्प्लेक्स को खंगाल रहे हैं ताकि वहां से डीएनए औऱ बैलिस्टिक नमूने लिए जा सकें.

उन्होंने पांच चरमपंथियों के मारे जाने की पुष्टि करते हुए कहा कि और चरमपंथियों के शव मिल सकते हैं.

जोसेफ़ ओल लेंकू ने एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि ‘‘हम अगले चरण में क़दम रख चुके हैं. फॉरेंसिक जांच में अभी सात दिन का समय लग सकता है.’’

हालांकि लेंकू का कहना था कि मरने वालों की संख्या में ज़्यादा इज़ाफ़ा होने की आशंका नहीं है.

मॉल की बिल्डिंग के कई माले गिर जाने की वजह से शवों के मलबे में फंसे होने की आशंका ज़ाहिर की जा रही है.

'10 लोग हिरासत में'

मरने वाले चरमपंथियों की पहचान की जा रही है जिसमें एक के महिला होने की बात कही जा रही है.

लेंकू ने कहा कि ''अपनी पहली प्रेस वार्ताओं में हमने कहा था कि इस बात के कोई संकेत नहीं हैं कि किसी महिला चरमपंथी के होने की कोई संभावना या सूचना नहीं है. हम आपसे गुज़ारिश करते हैं कि फॉरेंसिक विशेषज्ञों को इस बात की पुष्टि करने दें.''

हालांकि लेंकू ने इस बात की पुष्टि नहीं कि इस हमले में ब्रिटिश या अमरीकी लोग शामिल थे या नहीं लेकिन इस बारे में 10 लोगों को हिरासत में लिया गया है.

इस बीच कीनिया में तीन दिन का राष्ट्रीय शोक शुरू हो गया है. पूरे कीनिया में बुधवार को झंडे आधे झुके रहे.

सोमाली चरमपंथी गुट अल-शबाब ने कहा कि उसने ये हमला सोमालिया में कीनिया की सेना की कार्रवाई के जवाब में किया था.

चरमपंथी वेस्टगेट मॉल में शनिवार को घुसे थे, उन्होंने ग्रेनेड फेंके और वहां खरीदारी कर रहे लोगों और मॉल के कर्मचारियों पर फायरिंग की.

'रसायनों का इस्तेमाल'

अल-शबाब ने ट्वीट किया कि उसके चरमपंथियों ने 137 लोगों को बंधक बनाया था और दावा किया कि सुरक्षाबलों के घेराबंदी तोड़ने के लिए रसायनों का इस्तेमाल करने से बंधकों की मौत हो गई.

अल-शबाब के ट्वीट की पुष्टि नहीं की जा सकी.

एक सरकारी प्रवक्ता ने इस बात से इनकार किया कि रसायनों का का इस्तेमाल हुआ, प्रशासन ने लोगों से चरमपंथियों के प्रचार पर ध्यान न देने को कहा है.

दोनों ही पक्षों ने मॉल का हिस्सा ढहने के लिए दूसरे पक्ष को ज़िम्मेदार ठहराया है.

अल-कायदा से जुड़े अल-शबाब ने सोमालिया से सेना न हटाने पर बार-बार कीनिया पर हमले करने की धमकी दी है.

अफ्रीकी यूनियन की सेनाओं के हिस्से के तौर पर सोमालिया में अभी कीनिया के 4,000 सैनिक हैं जो सोमालिया की सरकारी सेना का साथ दे रहे हैं.

अल-शबाब सोमालिया में एक इस्लामिक राज्य स्थापित करने के लिए लड़ रहा है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार