'पाकिस्तान आइडल' का चरमपंथियों से सामना

पाकिस्तान आइडल

'अमरीकन आइडल' कार्यक्रम के पाकिस्तानी संस्करण के निर्माता इस कार्यक्रम को चरमपंथ प्रभावित क्षेत्रों तक ले जाने की योजना बना रहे हैं.

यह एक महत्वपूर्ण कदम माना जा रहा है क्योंकि पश्चिमोत्तर ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह प्रांत की राजधानी पेशावर, दक्षिण पश्चिमी प्रांत बलूचिस्तान की राजधानी क्वेटा जैसे शहरों में संगीतकारों को इस्लामी चरमपंथी समूहों से मौत की धमकियां मिलती रहती हैं.

हालांकि कार्यक्रम निर्माताओं का मानना है कि क्वेटा और पेशावर के संगीत को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता इसलिए उन्होंने वहां शुरुआती ऑडिशन करने का फ़ैसला किया है.

ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह में संगीत की शानदार परंपरा क्षेत्र में तालिबान के उदय के कारण दब गई थी.

रक्तरंजित मंच

ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह में साल 2002 में धार्मिक गठबंधन मुत्ताहिदा मजलिस-ए-अमल की सरकार बनने के बाद वहां संगीत पर सार्वजनिक रूप से पाबंदी लगा दी गई. सिनेमाघरों पर ताले लगा दिए गए. और संगीत से जुड़ी चीज़ें बेचने वाली दुकानें जबरन बंद करा दी गईं.

Image caption सभी तस्वीरें फ़ेसबुक और जियो टीवी के सौजन्य से

ऐसे में बहुत से कलाकारों ने या तो अपने संगीत की शैली बदल ली या फिर इस पेशे को ही छोड़ दिया. कुछ तो देश छोड़कर चले गए और दूसरे देशों में जाकर राजनीतिक शरण की मांग की. जो क्षेत्र में और पेशे में क़ायम रहे उन्हें धमकियां मिलती रहीं.

जनवरी, 2009 में तालिबान ने एक पख़्तून गायिका और नर्तकी की हत्या कर दी और उनके शव को बिजली के खंभे से टांग दिया. कुछ महीने बाद उसी कबाइली इलाक़े में एक गायिका की गोली मारकर हत्या कर दी गई.

बताया जाता है कि सरकारी टीवी पर कार्यक्रम पेश कर चुकीं पेशावर की एयमन उदास की हत्या उन्हीं के रिश्तेदारों ने की क्योंकि वो नहीं चाहते थे कि वे संगीत के क्षेत्र में रहें. एक अलगाववादी समूह के लिए एलबम रिकॉर्ड करने वाले एक बलूच गायक इसी अगस्त में मृत पाए गए थे.

पेशावर और क्वेटा में हाल ही के वक्त की कुछ सबसे हिंसक घटनाएं हुई हैं. इसी 22 सितंबर को पेशावर में एक चर्च के बाहर हुए दोहरे आत्मघाती बम हमले में 80 से ज़्यादा लोग मारे गए थे.

पिछले महीने क्वेटा में एक अंत्येष्टि के दौरान हुए आत्मघाती विस्फ़ोट में 30 से ज़्यादा पुलिसकर्मी मारे गए थे.

बुर्क़ा एवेंजर

माना जा रहा है कि 'जियो एंटरटेनमेंट' चैनल इस साल के अंत में 'पाकिस्तान आइडल' कार्यक्रम को पेश करेगा.

चैनल के प्रबंध निदेशक आसिफ़ रज़ा मीर कहते हैं कि नेटवर्क को क्वेटा और पेशावर में ख़तरों का अंदेशा है.

वह कहते हैं, "हम अपने प्रतिभागियों, जजों और कर्मचारियों को सुरक्षा प्रदान करेंगे."

चेंज डॉट ओआरजी वेबसाइट पर एक अपील जारी की जा चुकी है, "जियो टीवो को पाकिस्तान आइडल का प्रसारण करने से रोको क्योंकि यह हमारी धार्मिक मान्यताओं के ख़िलाफ़ है."

जियो नेटवर्क अगस्त में भी उस समय चर्चा में आया था जब उसने एक एनिमेटेड सिरीज़ बुर्क़ा एवेंजर शुरू की थी.

इसमें बुर्क़ा पहने एक शिक्षिका उन बदमाशों का मुक़ाबला करती हैं जो लड़कियों के उस स्कूल का विरोध करते हैं जिसमें वह पढ़ाती हैं.

इस एनिमेटेड सिरीज़ को तालिबान के लिए एक चुनौती के रूप में देखा गया जो पाकिस्तान के कबाइली इलाक़ों में स्कूलों पर हमला कर रहा है.

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं. बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार