ईरानी राष्ट्रपति की वापसी पर विरोध और समर्थन दोनों

Image caption हसन रुहानी जब तेहरान हवाई अड्डे पर उतरे तो सैकड़ों समर्थकों के साथ साथ विरोधियों का भी जमावड़ा था

संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में भाग लेने के बाद स्वदेश पहुंचे पर ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी के खिलाफ कट्टरपंथियों ने विरोध प्रदर्शन किया है और अमरीका मुर्दाबाद 'के नारे लगाए.

ईरानी राष्ट्रपति ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए कहा था कि तेहरान अपने परमाणु कार्यक्रम पर 'सार्थक' बातचीत के लिए तैयार है.

इस यात्रा में राष्ट्रपति हसन रुहानी ने फोन पर अपने अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा से बातचीत की जो कि पिछले 34 सालों में दोनों देशों में उच्च स्तर पर पहला संपर्क था.

शनिवार को राष्ट्रपति हसन रुहानी जब तेहरान हवाई अड्डे पर उतरे तो सैकड़ों समर्थकों के साथ साथ विरोधियों का भी जमावड़ा था. विरोधी जूते उठाए हुए प्रदर्शन कर रहे थे.

राष्ट्रपति के काफ़िले पर अंडे से हमला

समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक हवाई अड्डे पर जमा सैकड़ों की भीड़ राष्ट्रपति हसन रुहानी के प्रयासों के समर्थन में नारे लगा रहे थे जबकि अमरीकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक दर्जनों कट्टरपंथी प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति के काफिले पर अंडे और जूते फेंके.

विरोध कर रहे लोग और अमरीका मुर्दाबाद और 'इसराइल मुर्दाबाद 'के नारे लगा रहे थे.

इससे पहले, तीस सालों में ये पहला मौका था जब अमरीका के किसी राष्ट्रपति ने ईरान के शीर्ष नेतृत्व से बात की.

Image caption तीस सालों में ये पहला मौका था जब अमरीका के किसी राष्ट्रपति ने ईरान के शीर्ष नेतृत्व से बात की.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने फोन पर अपने ईरानी समकक्ष हसन रुहानी से बात की है.

राष्ट्रपति ओबामा का हसन रुहानी से बात करना ' एक अद्वितीय मौका’ है, विशेष रुप से उस समय जब ईरान के परमाणु कार्यक्रम को लेकर कूटनीति चरम पर है.

समझौते की ओर

इससे पहले हसन रुहानी कह चुके हैं कि वह परमाणु मामले पर जल्दी समझौता करना चाहते हैं.

उन्होंने कहा है कि वह तीन से छह महीने की अवधि में अपने देश के परमाणु कार्यक्रम पर विश्व शक्तियों के साथ समझौता चाहते हैं.

ईरान गुरुवार को छह विश्व शक्तियों के साथ यूरेनियम संवर्धन के मुद्दे पर बातचीत कर चुका है.

ईरानी राष्ट्रपति ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए कहा कि तेहरान अपने परमाणु कार्यक्रम 'उपयोगी' बातचीत के लिए तैयार है.

ईरान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्यों और जर्मनी से अपने परमाणु कार्यक्रम पर 2006 से बातचीत कर रहा है जो अभी तक उपयोगी साबित नहीं हो सकी है.

ओबामा ने ईरान के राष्ट्रपति के कमोबेश "उदार रुख" का स्वागत किया है.

(बीबीसी हिन्दी केक्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार