गैजेट ऐक्सेसरी कंपनियों के सामने हैं कई चुनौतियां

  • 6 अक्तूबर 2013
बिफ़्रो का उत्पाद स्पाइडरपोडियम

हो सकता है कि आप अपना स्मार्टफ़ोन बदलकर आईफ़ोन 5एस या 5सी लेना चाहते हों या आपकी नज़र सैमसंग की स्मार्टवॉच पर हो.

अगर आप गौर से देखें, तो पाएंगे कि बहुत सी छोटी और नई कंपनियां आपको मोबाइल फ़ोन का कवर, बैग, फैंसी हेडफोन जैसे उत्पाद बेचने को उत्सुक दिखती हैं.

तकनीकी ऐक्सेसरी का बाज़ार ऐसा है, जो प्रासंगिक और बेहतर होने या ऐपल-सैमसंग के किसी नए मॉडल के लायक होने के आधार पर ज़िंदा रहता है.

बाज़ार का दबाव

ऐसे ही उत्पाद बनाने वाली कंपनी 'कानमो' भारी दबाव का सामना कर रहे एक्सेसरीज़ बाज़ार के लिए एक अच्छी केस स्टडी साबित हो सकती है.

मुख्य रूप से ऐपल को चमड़े के केस, बैग और ऐक्सेसरी की आपूर्ति करने वाली इस कंपनी के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी हॉवर्ड हैरिसन हैं.

वो कहते हैं,''बहुत तेज़ी से बदल रहे बाज़ार में सफल होना काफ़ी मुश्किल काम होता है.''

हैरिसन के मुताबिक़, ''किसी उपकरण के लॉन्च होने के बाद अगर आप ऐक्सेसरी लॉन्च करने में तीन-चार हफ़्ते की देरी करते हैं, तो अधिकांश विक्रेता अन्य विकल्प तलाशने के लिए कहीं और चले जाएंगे.''

वो कहते हैं,'' सही नाप की ऐक्सेसरी का 50 फ़ीसद से अधिक व्यापार किसी उत्पाद के लॉन्च के तीन महीने के भीतर होता है. ''

इस दौरान 'कानमो' ऐक्सेसरी की डिज़ाइन और बड़े पैमाने पर उसके उत्पादन उत्पाद की लॉन्चिंग से पहले सुनिश्चित करना होता है, जिसके लिए वह बना है.

ऐपल जैसे ब्रांड के किसी उत्पाद की लॉन्चिग के लिए जिस तरह गोपनियता बरती जाती है, उसे देखते हुए यह आसान काम नहीं है.

'कानमो' को एक ऐसे उत्पाद के लिए ऐक्सेसरी बनानी होती हैं, जिसे उसने देखा नहीं है. कई बार तो यह भी तय करना होता है कि वह उत्पाद है भी या नहीं.

इस तरह की ऐक्सेसरी बनाने में आपको हमेशा डर रहता है कि हेडफोन या वॉल्यूम कंट्रोल के लिए छेद सही जगह है या नहीं या कहीं वह छोटा या ग़लत जगह पर तो नहीं बन गया.

इसकी जानकारी किसी को न होने पाए, इसके लिए कानमो को काफ़ी मेहनत करनी पड़ती है.

जानकारी की ज़रूरत

हैरिसन कहते हैं, ''हम 20-30 अलग-अलग जगहों से सूचनाएं एकत्र करते हैं. हम सूचना पाने के लिए हरसंभव प्रतिभा का इस्तेमाल करते हैं.''

जानकारी जुटाने के लिए तकनीकी वेबसाइटों पर ताज़ातरीन अफ़वाहों की पड़ताल की जाती है. साथ-साथ दुनियाभर में फैले कंपनी के आपूर्तिकर्ताओं और वितरकों से बातचीत कर जानकारी जुटाई जाती है.

हालांकि वे यह नहीं बताते कि बड़े तकनीकी ब्रांडों के चीन स्थित कारखानों में उनके मुख़बिर हैं या नहीं.

वे कहते हैं कि कंपनी केवल एक बार ग़लत साबित हुई है, लेकिन उसे बहुत गंभीरता से नहीं लिया गया. दबाव के बाद भी आज कानमो का कारोबार फल-फूल रहा है.

आज इस कंपनी का सालाना कारोबार क़रीब एक करोड़ पाउंड का है. इसमें 25 कर्मचारी काम करते हैं. इसका मुख्य कार्यालय लंदन के पॉश इलाक़े में है और कारोबार दुनिया के 35 देशों में फैला है.

नकली सामान की चुनौती

ऐक्सेसरी बनाने वाली ब्रिटेन की एक और कंपनी का नाम है ब्रैफ़ो. ब्रैफ़ो को बड़ी कंपनियों के उत्पादों की लॉन्चिग की अनियमितता का सामना करना पड़ता है.

ऐसा उद्योग जिसके बारे में माना जाता है कि उसके उत्पाद चीन या एशिया के किसी दूसरे देश में बने हैं, वहाँ इसका समाधान असामान्य बात है.

ब्रैफ़ो जो भी सामान बेचती है, वह ब्रिटेन में ही बना होता है.

इसके संस्थापक और प्रबंध निदेशक पैट्रिक मैथ्यू कहते हैं कि घर के पास बनाने से पूरी प्रक्रिया पर नियंत्रण अधिक रहता है.

वे बताते हैं कि निर्माण की स्वचालित तकनीकी की वजह से इसमें कोई अतिरिक्त लागत नहीं आती. नतीजा यह कि हम चीन को कीमत के मामले में पछाड़ देते हैं.

ब्रैफ़ो की स्थापना 2010 में हुई. आज इसका सालाना कारोबार दस लाख पाउंड है. ब्रिटेन और अमरीका में इसके दफ़्तर हैं.

इसके मुख्य उत्पाद स्पाइडरपोडियम है. यह ऐसा उत्पाद है, जो किसी भी तरह की सतह पर स्मार्टफ़ोन और टैबलेट की पकड़ को आसान बनाता है.

इसे बनाने का विचार मैथ्यू को लंबी विमान यात्रा के दौरान आया. हुआ यह कि जहाज में एंटरटेनमेंट की स्क्रीन टूटी थी. इससे उन्होंने अपने आईफ़ोन पर एक फ़िल्म देखी. इसके लिए कई घंटे उन्हें हैंडसेट चेहरे के सामने रखा पड़ा. इसमें उन्हें काफ़ी कठिनाई हुई.

गिरती बिक्री

स्पाइडरपोडियम अब कई आकार में मिलता है. इसमें लोहे के आठ पैर लगे हैं, जिन पर प्लास्टिक चढ़ी है.

शुरू में इसकी अच्छी बिक्री हुई, लेकिन बाद में दिक्कतें शुरू हो गईं.

मैथ्यू कहते हैं कि उन्हें पता है कि चीन की कुछ कंपनियां उनके उत्पाद की नकल कर घटिया उत्पाद बना रही हैं और ब्रैफ़ो के नाम पर बेच रही हैं. इससे उन्हें घाटा उठाना पड़ा.

मैथ्यू कहते हैं कि उपभोक्ताओं और आपूर्तिकर्ताओं को अक्सर यह नहीं पता चलता कि उन्हें नकली सामान बेचा जा रहा है, लेकिन कमियों के लिए लोग उन्हें ही ज़िम्मेदार ठहराते हैं.

समीक्षा बेवसाइट पर ब्रैफ़ो के उत्पादों की शिकायतें देखकर मैथ्यू निराश हो गए. ऐसा उनके ब्रांड के नाम पर बेचे गए नकली उत्पादों की वजह से हुआ.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार