29 नवंबर को रिटायर होंगे पाक सेना प्रमुख कयानी

  • 6 अक्तूबर 2013

पाकिस्तान के थल सेना प्रमुख जनरल अशफाक परवेज कियानी ने उन सूचनाओं को खारिज कर दिया है कि वह अपना कार्यकाल बढ़ाना चाहते हैं.

पाकिस्तानी सेना के जनसंपर्क विभाग द्वारा जारी बयान के अनुसार जनरल कियानी ने कहा है कि वह अगले महीने अपने कार्यकाल के अंत में रिटायर हो जाएंगे.

उन्होंन एक बयान जारी करके कहा, “मेरा कार्यकाल 29 नवंबर को समाप्त हो रहा है. उस दिन मैं रिटायर हो रहा हूँ.”

बयान के अनुसार अपने भविष्य के बारे में जनरल कियानी ने कहा है कि संगठन और परंपराएँ व्यक्ति से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हैं.

उन्होंने कहा कि उनके मौजूदा दायित्वों और भावी योजनाओं के बारे में मीडिया में बहस चल रही थी और हर तरह की अफवाहें और अटकलें लगाई जा रही थीं और कई रिपोर्टों में उन्हें कुछ नई जिम्मेदारियाँ सौंपने का भी ज़िक्र हुआ.

कियानी का कहना था कि वो देश के राजनीतिक नेतृत्व और लोगों के आभारी हैं कि उन्होंने राष्ट्रीय इतिहास के इस मोड़ पर उन पर भरोसा किया लेकिन वह सामान्य राय से सहमत हैं कि संगठन और परंपराएं लोगों से कहीं ज्यादा मजबूत होते हैं और उन्हें ही प्राथमिकता दी जानी चाहिए.

माना जा रहा है कि सोमवार को प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ नए सेना प्रमुख के नाम की घोषणा करेंगे.

पाकिस्तान में बीबीसी संवाददाता शाज़ेब जीलानी का कहना है कि पाकिस्तान में सेना की ताकत और प्रभाव को देखते हुए नवाज़ शरीफ़ के लिए ये नियुक्ति बहुत महत्वपूर्ण होगी.

मजबूत लोकतंत्र

सेना के द्वारा जारी बयान के अनुसार जनरल कियानी ने कहा है कि उन्हें छह साल तक दुनिया की बेहतरीन सेना के नेतृत्व का अवसर मिला और अब दूसरों की बारी है कि वह पाकिस्तान को वास्तव में एक लोकतांत्रिक, समृद्ध और शांतिपूर्ण देश बनाएं.

उनका यह भी कहना था कि अब जबकि उनका कार्यकाल पूरा हो रहा है, देश में लोकतांत्रिक प्रक्रिया जड़ पकड़ चुकी है और सेना इस लोकतांत्रिक व्यवस्था का पूरी तरह से समर्थन करती है और उसे मज़बूत करना चाहती है.

गौरतलब है कि हाल ही में विदेशी मीडिया में ऐसी खबरें आई थीं जिनमें जनरल कियानी का कार्यकाल बढ़ाया जाना या उन्हें सरकार की ओर से कोई और महत्वपूर्ण पद देने की संभावना व्यक्त की गई थी.

सशक्त पद

अमेरिकी पत्रिका वॉल स्ट्रीट जनरल में प्रकाशित एक रिपोर्ट में सैन्य सूत्रों के हवाले से कहा गया था कि जनरल कियानी चाहते हैं कि ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी के औपचारिक पद को सशक्त बनाकर उन्हें सौंप दिया जाए.

जनरल अशफाक परवेज कियानी को नवम्बर 2007 को तत्कालीन सैन्य राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ ने अपनी जगह पाकिस्तान थल सेना के प्रमुख पद पर नियुक्त किया था. पिछली सरकार के कार्यकाल में 24 जुलाई 2010 को तत्कालीन प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने उनका कार्यकाल तीन साल बढ़ा दिया था.

पाकिस्तान में सेना प्रमुख के पद की अवधि को बढ़ाना कोई नई बात नहीं है और जनरल अशफाक परवेज कियानी से पहले पांच सेना प्रमुख पद की समयावधि से अधिक समय तक इस पद पर नियुक्त रहे, लेकिन जनरल कियानी पाकिस्तान के ऐसे पहले सेना प्रमुख थे जिनका कार्यकाल किसी सैन्य शासक ने नहीं बल्कि लोकतांत्रिक तरीके से चुने गए शासक ने बढ़ाया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार