जेल से भाँग की तस्करी करती बिल्ली दबोची गई

मॉल्दोवा की बिल्ली
Image caption इस बिल्ली की तलाशी का फ़ुटेज मॉल्दोवा के न्याय मंत्रालय ने जारी किया

मॉल्दोवा में प्रुनकल गाँव की एक जेल के सुरक्षा गार्ड्स को एक बिल्ली पर झपटना पड़ा. दरअसल उन्हें शक था कि बिल्ली का इस्तेमाल भाँग की तस्करी के लिए हो रहा था. उस बिल्ली के गले के इर्द-गिर्द भाँग के पाउच बाँधकर ये तस्करी की जा रही थी.

संदेह तब बढ़ा जब काले-सफ़ेद रंग की ये छोटी सी बिल्ली जेल की सुरक्षा दीवार में बने एक छोटे से छेद से नियमित रूप से आती-जाती दिखने लगी.

उसके गले में जो पट्टा पड़ा था वो आम पट्टों से बड़े साइज़ का था. उसी में ये भाँग रखी जाती थी. अब जाँच इस बात की हो रही है कि उस बिल्ली का प्रशिक्षक आख़िर कौन है.

वहाँ के न्याय मंत्रालय ने उस बिल्ली की जाँच-पड़ताल का वीडियो वेबसाइट पर लगाया है.

अभी पिछले ही दिनों रूस में एक घटना सामने आई थी जिसमें बिल्ली का इस्तेमाल करके जेल में मोबाइल फ़ोन स्मगल किया जा रहा था.

जून में मॉस्को टाइम्स में ख़बर छपी थी कि गार्डों ने उसे जेल की दीवार पर चढ़ते हुए पकड़ा था. उस समय बिल्ली की जो तस्वीर छपी थी उसमें दिखा था कि बिल्ली के शरीर पर फ़ोन और उसका चार्जर लगा हुआ था.

पिछले कुछ वर्षों में बिल्लियों का इस्तेमाल कई अन्य ग़ैर क़ानूनी कामों के लिए भी होता रहा है. अख़बार के अनुसार बिल्लियाँ इससे पहले जेलों में हेरोइन की तस्करी के लिए भी पकड़ी गई हैं.

संबंधित समाचार