जेनेवा वार्ता में हिस्सा ले सीरियाई विपक्ष: हेग

  • 23 अक्तूबर 2013
सीरिया, जेनेवा, विलियम हेग, जॉन कैरी, अमरीका, ब्रिटेन

ब्रिटिश विदेश मंत्री विलियम हेग ने सीरिया में विपक्षी पार्टियों से अनुरोध किया है कि वे जेनेवा में अगले महीने होने वाली शांति वार्ता में हिस्सा लें.

उधर, अमरीकी विदेशमंत्री जॉन कैरी ने कहा है कि बातचीत में शामिल सभी पक्षों की राय है कि सीरिया की नई सरकार में राष्ट्रपति असद की कोई जगह नहीं हो सकती.

ब्रिटिश विदेशमंत्री विलियम हेग इन दिनों सीरिया के विपक्षी नेताओं को मनाने में जुटे हैं, ताकि सीरिया में भविष्य की सरकार का ख़ाका तैयार किया जा सके.

हेग के मुताबिक़, सीरिया के मौजूदा राष्ट्रपति असद की अगली सरकार में कोई भूमिका नहीं हो सकती, इस पर बातचीत में शामिल सभी पक्ष एकमत हैं. हेग का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय ग्रुप फ़्रैंड्स ऑफ़ सीरिया भी अगले महीने की जेनेवा बैठक में शामिल होगा.

हालांकि सीरिया के कुछ अहम विपक्षी नेताओं का कहना है कि अगर जेनेवा बैठक में असद सरकार के प्रतिनिधि शामिल हुए तो वे नहीं आएंगे. सीरियाई राष्ट्रीय परिषद के अध्यक्ष अहमद जारबा ने कहा है कि वे सीरियाई जनता की तरफ़ से बातचीत में शामिल हो रहे हैं.

अहम जारबा ने कहा, ‘हम यहां ये बताने आए हैं कि हम उस जनता के प्रतिनिधि हैं जिससे झूठे वायदे किए गए हैं. हमारे क्रांतिकारी उस अंतरराष्ट्रीय समुदाय से बोर हो चुके हैं, जो बोलता ज़्यादा है और जिसके काम दिखाई नहीं देते.’

'असद खो चुके हैं वैधानिकता'

उधर, अमरीकी विदेशमंत्री जॉन कैरी का कहना है कि सीरिया मुद्दे पर आगे बातचीत तभी हो सकती है जब सभी पक्षों को लगे कि उनकी इसमें नुमाइंदगी हो रही है.

जॉन कैरी के मुताबिक़, ‘अहम बात ऐसे लोगों को खोजना है, जो दोनों पक्षों को स्वीकार्य हों और जो सीरिया की जनता का सम्मान करते हों. जो अंतरिम सरकार चला सकें ताकि सीरिया अपना भविष्य चुन सके. मगर एक चीज़ तय है. इस पर कोई सहमति नहीं हो सकती जिसमें बशर अल असद को शामिल किया गया हो. हम मानते हैं कि असद देश पर शासन चलाने की अपनी वैधानिकता खो चुके हैं. रूसियों को जेनेवा वार्ता मंज़ूर है. विपक्ष को बैठक से पहले हफ़्तेभर में मन बनाना होगा और इस बारे में कोई पहले से शर्त नहीं रखने वाला.’

जॉन कैरी का कहना है कि युद्ध समझौतापूर्ण बातचीत से ही ख़त्म हो सकता है. उन्होंने कहा कि बातचीत में शामिल हर पार्टी इस बात पर सहमत है कि संघर्ष का समाधान सिर्फ़ राजनीतिक हल ही हो सकता है.

जॉन कैरी ने कहा, ‘हम समझते हैं कि लंदन में इकट्ठा हुए यूरोपियन, अरब और तुर्क सभी सदस्य एक साथ हैं और सभी मानते हैं कि हम समझौते के रास्ते तक पहुंचें और लोगों की जान और सीरिया का अस्तित्व बचा सकें.’

उन्होंने सीरिया मुद्दे पर अमरीका और सऊदी अरब के बीच मतभेदों की बात से भी इनकार किया. कैरी ने सऊदी इंटेलीजेंस प्रमुख प्रिंस बांदर बिन सुल्तान की रिपोर्ट पर बताया कि अमरीका जानता है सऊदी इस बात से ख़फ़ा थे कि अमरीका ने सैन्य हस्तक्षेप क्यों नहीं किया. लेकिन सोमवार को सऊदी मंत्री प्रिंस सऊद से मुलाकात के बाद गिलेशिकवे दूर हो गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार