चीन:भित्तिचित्रों की 'मरम्मत' करने पर निकाले गए

चीन में अनाधिकारिक तौर पर किए गए मरम्मत के काम के चलते दो बौद्ध भित्तिचित्रों के ख़राब हो जाने की वजह से दो अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है.

सरकारी ख़बरों के मुताबिक़ ये तस्वीरें लियाओनिंग प्रांत के एक 270 साल पुराने मंदिर के अंदर थी और 1644 से 1911 तक रहे क्विंग राजवंश के समय की थीं.

इन तस्वीरों के बिगाड़े जाने की ख़बर एक ब्लॉगर के ज़रिए मिली जिसके बाद इस कार्रवाई की कड़ी निंदा हुई है.

ग्लोबल टाइम्स में छपी ख़बर के मुताबिक चाओयांग शहर की सांस्कृतिक विरासत की देखरेख करने वाली टीम के प्रमुख औऱ मंदिर मामलों को आधिकारिक तौर पर देखने वाले अधिकारी को निकाल दिया गया है.

अख़बार ने शहर के अधिकारी ली हयफ़ेंग के हवाले से लिखा है कि मंदिर के आसपास के इलाक़े की देखभाल के लिए ज़िम्मेदार कम्युनिस्ट पार्टी के प्रभारी को भी चेतावनी दी गई है.

वुजिआओफ़ेंग नाम के ब्लॉगर ने मरम्मत के बाद भित्तिचित्रों की तस्वीरों को वास्तविक तस्वीरों के साथ पोस्ट किया.

जांच

Image caption एक ब्लॉगर ने मरम्मत से पहले और बाद के भित्तिचित्रों को ऑनलाइन पोस्ट किया

अख़बार के अनुसार चाओयांग की स्थानीय सरकार ने इस पर तुरंत हरकत में आते हुए जांच की.

इस रेस्टोरेशन की इजाज़त नगर स्तर के सांस्कृतिक विरासत अधिकारियों से ली गई थी जबकि यह प्रांतीय स्तर से आनी चाहिए थी ताकि राष्ट्रीय मानदंडों का इस्तेमाल हो सके.

काम की ज़िम्मेदारी एक स्थानीय फ़र्म को दी गई जिसे सांस्कृतिक चिन्हों की मरम्मत की कोई जानकारी नहीं थी.

ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक़ जांच अब भी चल रही है और कुछ दूसरे अधिकारियों को सज़ा मिलने की भी आशंका है.

प्रांतीय सांस्कृतिक दफ़्तर के लिए काम करने वाले जानकारों का कहना है कि भित्तिचित्रों को वापिस ठीक तो किया जा सकता है लेकिन वो वास्तविक रूप में लौट नहीं पाएंगे.

चीन में ट्विटर के स्थान पर इस्तेमाल होने वाले वीबो पर इस ‘मरम्मत’ की कड़ी निंदा हुई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार