गैजेट्स की ऐसी लत कि 'हाथ से लिखना भूल गए'

आधुनिक दौर में लोग इंटरनेट का ज़्यादा से ज़्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं. कॉपी-किताब पर लिखने के बजाए लोग टाइप ज़्यादा करने लगे हैं. चीन में इसका अजीबोगरीब असर देखने को मिल रहा है.

सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने खुद को इंटरनेट एडिक्ट कहने वाले जैंग ली का किस्सा छापा है. जैंग के हवाला से लिखा गया है कि वे अलग-अलग इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स की इतनी आदी हो चुकी हैं कि कागज़ और कलम से लिखने में उन्हें बेहद दिक्कत होने लगी है.

32 साल की ज़ैंग ने कहा है. मैंने टीवी पर एक गेम शो देखा जिसमें लोगों को बोले गए शब्दों को लिखना था लेकिन मुझे अपनी चीनी भाषा के साथ संघर्ष करना पड़ा. मैं ऐसी चीज़ें भी नहीं याद कर पा रही थी जो बच्चे भी जानते होंगे.

इस गेम शो में भाषा के विद्वान बतौर जज शामिल रहते हैं और चीन के सोशल मीडिया पर काफी हिट रहा है.

127 साल की चीनी महिला

चीन की शिन्हुआ एजेंसी का दावा है कि चीन में 100 साल से ज़्यादा उम्र वाले लोगों की संख्या 54,000 से ज़्यादा है. इसमें महिलाएँ भी शामिल हैं. शिन्हुआ ने लिखा है कि 127 साल की अलीमिहान सबसे उम्रदराज़ हैं और उनका जन्म 25 जून 1886 को हुआ था.

अगर इसकी पुष्टि हो जाती है तो वह दुनिया की सबसे बुज़ुर्ग व्यक्ति बन जाएँगी हालांकि इथियोपिया में भी ख़बर छपी थी कि वहाँ के एक किसान की उम्र 160 साल है.

शिन्हुआ के मुताबिक 54,166 लोगों की उम्र सौ साल से ज़्यादा है और उनमें से तीन चौथाई लोग शहरों के बाहरी इलाक़ों में रहते हैं.

हालांकि पिछले साल संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में कहा गया था कि कुल 14300 लोगों की ही उम्र 100 से ज़्यादा है. वहीं भारत के अख़बार टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने छापा है कि भारत में ऐसे दस हज़ार लोग हैं और वो चीन से आगे निकलने वाला है.

आवारा कुत्तों पर पुलिस मेहरबान

सड़कों और गलियों पर घूमने वाले आवारा कुत्ते भारत समेत कई देशों में बड़ी समस्या रहे हैं लेकिन कोस्टारिका में पुलिस इन्हीं आवारा कुत्तों को अपने काम में इस्तेमाल कर रही है.

'इनसाइड कोस्टारिका' वेबसाइट के मुताबिक वहाँ का सार्वजनिक सुरक्षा मंत्रालय आवारा कुत्तों को प्रशिक्षित कर रहा है ताकि वे विस्फोटक, मादक पदार्थ वगैरह ढूँढने में मदद कर सकें.

ये योजना जुलाई में शुरू हुई थी जब कई 'उम्मीदवारों' को सड़कों से हटा लिया गया था. इनमें से 17 'उम्मीदवार' परीक्षा में पास हो गए और अब उन्हें पुलिस यूनिट के लिए ट्रेन किया जा रहा है. एक वेबसाइट के मुताबिक कोस्टारिका में 10 लाख आवारा कुत्ते हैं जबकि देश की जनसंख्या 50 लाख से भी कम है