उत्तर कोरिया ने दक्षिण कोरिया के छह नागरिक रिहा किए

कोरिया

उत्तरी कोरिया ने दक्षिण कोरिया के छह नागरिकों को रिहा किया है. दक्षिण कोरियाई अधिकारियों ने उत्तर कोरियाई के इस दुर्लभ क़दम की पुष्टि की है.

दोनों देशों के बीच सीमा पर स्थित पनमुनजोम गाँव में शुक्रवार को रिहा किए गए 27 से 67 वर्ष की उम्र के लोगों का दक्षिण कोरिया को सौंपा गया.

रिहा किए गए लोगों के नाम ज़ाहिर नहीं किए गए हैं और न ही उन्हें किस स्थिति में गिरफ़्तार किया गया था इस बारे में ही कोई जानकारी सार्वजनिक की गई है.

1950 से 153 तक दोनों कोरियाई देशों के बीच चला युद्ध ख़त्म के बजाए युद्धविराम से समाप्त हुआ था. यानि तकनीकी रूप से दोनों देशों के बीच अभी भी युद्ध जारी है.

दक्षिण कोरिया के एकीकरण मंत्रालय की प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक गुरुवार को उत्तर कोरिया ने दक्षिण कोरिया के रेड क्रॉस को यह जानकारी दी थी कि इन छह लोगों को पानमुनजम के रास्ते सौंपा जाएगा.

अधिकारियों के मुताबिक रिहा किए गए नागरिकों को पहले दक्षिण कोरिया के खुफ़िया विभाग ले जाया जाएगा ताकि उनकी गिरफ़्तारी और रिहाई की परिस्थितियों की जाँच की जा सके.

सुलह के संकेत

अधिकारियों का कहना है कि पहली नज़र में यह लगता है कि ये नागरिक उत्तर कोरिया द्वारा अग़वा किए गए नागरिकों की सूची में शामिल नहीं हैं.

सियोल में मौजूद बीबीसी संवादादाता लूसी विलियमसन के मुताबिक एक संभावना यह भी है कि वे चीन के रास्ते अवैध तरीके से उत्तर कोरिया में घुसे हों. दक्षिण कोरिया के नागरिकों की गैर अधिकारिक उत्तर कोरिया यात्रा को अवैध माना जाता है.

कोरिया युद्ध के दौरान बिछड़े परिवारों को मिलाने के लिए पिछले महीने आयोजित होने वाले समारोह को उत्तर कोरिया द्वरा रद्द किए जाने के बाद अब इस क़दम को उत्तर कोरिया की ओर से सुलह के एक संकेत के रूप में देखा जा रहा है.

इस साल फ़रवरी में उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण के बाद से ही दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है.

(बीबीसी हिंदी के क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

संबंधित समाचार