तस्वीर के घालमेल ने 'चरमपंथी' बना दिया

Image caption नाएडा असियालोवा की पहले हिजाब वाली तस्वीर सर्कुलेट की गई थी.

रूस में एक आत्मघाती बस धमाके में छह लोगों के मारे जाने के घंटों बाद एक पासपोर्ट में हिजाब वाली महिला की तस्वीर संदिग्ध हमलावर के रूप में रूसी टीवी चैनल पर दिखाई जाने लगी. लेकिन जल्दी ही इस पर सवाल उठ गए.

हफ्ते में दो बार छपने वाले अखबार 'नोवाया गज़ेता' ने याद किया कि नाएडा असियालोवा के पासपोर्ट के पहले पन्ने की तस्वीर राष्ट्रीय चरमपंथ निरोधक समिति के ट्विटर अकाउंट के ज़रिए जारी हुई.

अखबार ने लिखा कि शुरुआत में किसी ने ध्यान नहीं दिया कि रूसी क़ानून के मुताबिक सरकारी दस्तावेज़ के लिए कोई व्यक्ति हिजाब में तस्वीर नहीं खिंचवा सकता और रिपोर्ट किया गया कि पासपोर्ट धमाके की जगह से मिला है.

केवल कुछ ब्लॉगरों ने इस खबर के खिलाफ़ अपना गुस्सा ज़ाहिर किया.

उनका कहना था कि असियालोवा के लिए ये संभव नहीं था कि वो दागिस्तान के अपने घर से लंबी दूरी की बस पकड़कर ऐसी तस्वीर वाले पासपोर्ट के साथ वोल्वोग्रैड के उस स्थान तक पहुंचतीं जहां सोमवार को धमाका हुआ था.

थोड़े ही समय बाद एक और पासपोर्ट की तस्वीरें सर्कुलेट की जाने लगीं.

'विचित्र झूठ'

ये पासपोर्ट ख़राब हालत में था लेकिन उसपर छपी जानकारियां समान थीं. हां एक बड़ा अंतर ये था कि इस पासपोर्ट में लगी तस्वीर में असियालोवा का सिर ढका हुआ नहीं था.

विपक्षी एक्टिविस्ट रोमन डोब्रोखोतोव ऐसे पहले व्यक्ति थे जिन्होंने सुझाव दिया कि ये सही तस्वीर हो सकती है.

Image caption बाद में बिना हिजाब वाली ये तस्वीर सर्कुलेट की गई.

राजनीतिक वेबसाइट ‘स्लोन’ ने पूछा कि सुरक्षा बलों को क्यों इस तरह का विचित्र झूठ छापने की ज़रूरत महसूस हुई.

यहां तक कि सरकारी नियंत्रण वाले रूसी चैनल वन टीवी ने भी कहा कि पहले जारी की गई तस्वीर में दिख रहा हिजाब एक दूसरी तस्वीर पर ऊपर से लगा दिया गया था.

एक और एक्टिविस्ट और चेस के पूर्व विश्व चैम्पियन गैरी कास्पारोव ने शिकायत भरा ट्विट किया कि इस ग़लत रिलीज़ के लिए किसी अधिकारी या मीडिया से पूछताछ नहीं की जाएगी.

एपी न्यूज एजेंसी के मुताबिक रूस की मुख्य जांच एजेंसी ने बाद में कहा कि उसने पहली तस्वीर जारी नहीं की थी.

उसने सरकारी नियंत्रण वाले एटीवी का हवाला देकर कहा कि उसने हिजाब वाली तस्वीर असियालोवा के पासपोर्ट का स्कैन थी जिसे कि सुरक्षा एजेंसियों के डॉज़ियर से लिया गया था और ये कि असियालोवा की हिजाब वाली तस्वीर उसपर एक सुरक्षा एजेंसी ने चिपका दी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार