फिलीपींस: तबाही के बाद उबरने की चुनौती

तूफ़ान के बाद फैला मलबा

फ़िलीपींस में आए अब तक के शक्तिशाली तूफ़ानों में से एक हेयान से मची तबाही के बाद अब अधिकारी जन-जीवन को सामान्य बनाने की कोशिश कर रहे हैं.

आशंका है कि हेयान से सबसे अधिक प्रभावित लेयटे प्रांत की राजधानी टेक्लोबान में दस हज़ार से अधिक लोगों की मौत हुई है और लाखों लोगों को विस्थापित होना पड़ा है.

हेयान ने टेक्लोबान में घरों, स्कूलों और एक हवाई अड्डे को नुक़सान पहुंचाया है. राहत और बचाव कर्मी अभी भी तूफ़ान प्रभावित कई गांवों में नहीं पहुंच पाए हैं.

संकट ही संकट

तूफ़ान की वजह से कई इलाक़ों में पीने के साफ़ पानी, बिजली और खाने का संकट पैदा हो गया है.

फ़िलीपींस में तबाही मचाने के बाद हेयान सोमवार सुबह वियतनाम के उत्तरी प्रांत कुआंग निन्ह में तट से टकराया. हालांकि वहाँ पहुँचने से पहले ही हेयान की गति काफी कमज़ोर पड़ चुकी थी. इस दौरान उसकी रफ्तार क़रीब 150 किलोमीटर प्रति घंटा थी.

तूफ़ान प्रभावित इलाकों में हज़ारों सैनिकों को तैनात किया गया है. सेना के मालवाहक जहाज राहत सामग्री पहुँचा रहे हैं. लेकिन सड़कों पर बिखरे मलबे और टूटी-फूटी सड़कों की वजह से बचाव और राहत कार्य में बाधा आ रही है.

टेक्लोबान के अधिकारियों का कहना है कि लूटपाट की वजह से उन्हें राहत सामग्री के वितरण में परेशानी उठानी पड़ रही है.

स्कूल अध्यापक एंड्र्यू पोमेडा ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया कि टेक्लोबान शहर पूरी तरह तबाह हो गया है. खाने की कमी और अपने परिजनों को खो देने की वजह से कई लोग अपना मानसिक संतुलन खो रहे हैं.

उन्होंने कहा, ''लोग हिंसक होते जा रहे हैं. वे भोजन, चावल और दूध की तलाश में व्यापारिक प्रतिष्ठानों और मॉलों को लूट रहे हैं. मुझे आशंका है कि अगले एक हफ्ते में लोग भूख से मरने लगेंगे.''

बचाव अभियान

बीबीसी संवददाता रूपर्ट विंगफ़िल्ड का कहना है कि तूफ़ान से तबाह हो चुके टेक्लोबान के हवाई अड्डे पर सैकड़ों लोग शहर से बाहर जाने के लिए हवाई जहाज पकड़ने के इंतजार में हैं.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स से फिलीपींस के आंतरिक सुरक्षा मंत्री मार रॉक्सस ने कहा कि एक बड़े पैमाने के राहत और बचाव अभियान की जरूरत है.

फिलीपींस में हेयान क़रीब 40 हजार की आबादी वाले कस्बे गुयान में तट से टकराया था. टीवी फुटेज में इसके तबाह घरों और सड़कों पर फैले मलबे को दिखाया गया है.

एबीएस-सीबीएन चैनल से एक महिला ने कहा, ''मेरे पास घर नहीं है. मेरे पास कपड़े नहीं हैं. मैं नहीं जानती कि मैं अपना जीवन फिर कैसे शुरू कर पाऊंगी. मैं नहीं जानती कि हमें क्या हुआ. हम मदद की अपील कर रहे हैं. मैं भले लोगों से गुयान की मदद करने की अपील कर रही हूँ.''

फिलीपींस में आपदा प्रबंधन का काम देखने वाली परिषद की ताज़ा रिपोर्ट में रविवार को सुबह 11 बजे तक 229 लोगों के मौत की पुष्टि की गई है. इसमें कहा गया है कि क़रीब छह लाख तीस हज़ार लोग विस्थापित हुए हैं.

बिखरा मलबा

फिलीपींस में रेडक्रास के प्रमुख रिचर्ड गॉर्डन ने बीबीसी से कहा कि दूर-दराज के इलाकों में खाने, कपड़ों, दवाओं और पीने के साफ़ पानी की आपूर्ति के लिए सड़कों पर से मलबा हटाने की जरूरत है.

तूफ़ान की वजह से क़रीब 40 लाख लोग प्रभावित हुए हैं. लोगों की मदद के लिए अमरीका के सैनिक विमानों और जहाजों को लगाया गया है. अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने तूफान में मारे गए लोगों और इससे हुए नुक़सान पर दुख जताया है.

कई अन्य देशों ने लाखों डॉलर की मदद का आश्वासन दिया है. वहीं कई अन्य अंतरराष्ट्रीय राहत एजेंसियां राहत सामग्री पहुंचाने की तैयारी कर रही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार