'समझौता न होने के लिए पश्चिमी देश ज़िम्मेदार'

मोहम्मद जावेद ज़रीफ

ईरान के विदेश मंत्री ने आरोप लगाया है कि पश्चिमी देशों के बीच मतभेद के कारण वह शनिवार को अपने परमाणु कार्यक्रम के बारे में किसी समझौते पर नहीं पहुँच पाया.

ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जावेद ज़रीफ़ ने अमरीकी विदेश मंत्री जॉन कैरी के उस दावे को ख़ारिज किया है जिसमें कहा गया था कि ईरान "एक ख़ास मौक़े के बाद" समझौते को स्वीकार करने की स्थिति में नहीं था.

मोहम्मद जावेद ने कहा, चाहे "जितनी भी घुमावदार बातें" कर ली जाएं, जिनेवा में जो हुआ उसे बदला नहीं जा सकता लेकिन इस तरह की बातों से "भरोसे में कमी" आ सकती है.

ईरान और पी5+1 देश जिसमें अमरीका, ब्रिटेन, फ्रांस, रूस, चीन और जर्मनी के प्रतिनिधि 20 नवंबर को फिर से बैठक करेंगे.

ईरान ने कहा कि उनका परमाणु कार्यक्रम केवल शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए है लेकिन विश्व की इन शक्तियों को लग रहा है कि वो परमाणु हथियार विकसित करना चाहता है.

व्यवधान

Image caption जॉन कैरी ने बीबीसी से कहा कि वे समझौते के बहुत बहुत करीब पहुँच गए थे.

कुछ ख़बरों के अनुसार ताज़ा बातचीत इसलिए बाधित हुई क्योंकि फ्रांस चाहता था ईरान के हैवी वाटर रिएक्टर पर पूरी तरह पाबंदी लगे.

वहीं कुछ अन्य ख़बरों में कहा गया है कि ईरान सरकार द्वारा उसके यूरेनियम संवर्धन के 'अधिकार' को औपचारिक रूप से अनुमति देने पर ज़ोर देना ही समझौते में सबसे बड़ी अड़चन रहा.

सोमवार को अबु धाबी की यात्रा के दौरान जॉन कैरी ने कहा कि पी5+1 देश "शनिवार को ईरान के सामने प्रस्ताव रखते समय एकमत थे."

ईरान के विदेश मंत्री ने अपने ट्विटर संदेश में कहा, "एक विदेश मंत्री, गुरुवार को अमरीका के प्रस्ताव का आधा हिस्सा निगल गए और शुक्रवार की सुबह उन्होंने खुलेआम इस पर टिप्पणी की."

समझा जा रहा है कि ईरान का इशारा फ्रांस के विदेश मंत्री की तरफ़ था.

'मूर्खों का खेल'

बातचीत की समाप्ति पर फ्रांस के विदेश मंत्री लॉरेंट फ़ेबियस ने कहा कि फ्रांस 'मूर्खों के खेल' को स्वीकार नहीं कर सकता.

इंटरफ़ैक्स न्यूज़ एजेंसी ने रूसी विदेश मंत्रालय से सूत्रों के हवाले से मंगलवार को ख़बर दी थी कि रूस नहीं मानता कि समझौता न होने के लिए ईरान ज़िम्मेदार है.

कैरी ने बीबीसी से कहा, "हम समझौते के बहुत क़रीब, बहुत बहुत क़रीब थे. मुझे लगता है कि हम एक ख़ास बिन्दु के बारे में चार-पाँच विचारों को लेकर हमारे बीच मतभेद हो गया."

सोमवार की सुबह फ़ेबियस ने बातचीत के विफल होने के लिए ज़िम्मेदार होने से इनकार किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार