नेटो की सप्लाई लाइन पर प्रदर्शनकारियों का क़ब्ज़ा

  • 26 नवंबर 2013
पाकिस्तान, नेटो, कराची

अफ़गानिस्तान में तैनात नेटो सैनिकों तक सामग्री ले जाने वाले आपूर्ति मार्ग को पाकिस्तानी प्रदर्शनकारियों ने बंद कर दिया है. यह प्रदर्शन विपक्षी राजनेता एवं पूर्व क्रिकेटर इमरान खान के आह्वान पर हो रहा है.

इमरान खान ने कहा है कि ये प्रदर्शन तब तक चलते रहेंगे जब तक कि पाकिस्तान के पश्चिमोत्तर प्रांत में अमरीकी ड्रोन हमले बंद नहीं हो जाते.

बीबीसी संवाददाता अलीम मक़बूल के अनुसार, मुख्य आपूर्ति मार्ग पर प्रदर्शनकारियों ने कब्जा जमा लिया है.

प्रदर्शनकारी ही तय कर रहे हैं कि कौन अफ़गानिस्तान जा सकता है और कौन नहीं.

प्रदर्शनकारी ट्रक चालकों को डरा-धमका रहे हैं और नेटो के लिए आपूर्ति करने वाले ट्रकों को लौटा रहे हैं.

इमरान के अनुसार, "ड्रोन हमलों ने पाकिस्तानी तालिबान के साथ किसी भी शांति वार्ता के रास्ते को पूरी तरह बंद कर दिया है."

तुष्टिकरण

तालिबान नेता हकीमुल्ला महसूद की ड्रोन हमले में मौत के बाद हो रहे इन प्रदर्शनों को लेकर इमरान पर तुष्टिकरण के आरोप भी लग रहे हैं.

इन प्रदर्शनों की पिछले शनिवार को उस समय शुरुआत हुई जब इमरान खान के नेतृत्व में प्रदर्शनकारियों ने पख्तूनख्वा प्रांत में नेटो के मुख्य आपूर्ति मार्ग को जाम कर दिया.

उधर, समाचार एजेंसियों के अनुसार, गत सोमवार को पाकिस्तानी सेना ने स्वदेशी ड्रोन का पहला बेड़ा शामिल किया है.

पाक सेना ने एक वक्तव्य में कहा है कि बराक़ और शाहपुर ड्रोन पाकिस्तानी सेना और एयर फोर्स द्वारा इस्तेमाल किए जाएंगे.

देशी ड्रोन

Image caption पाकिस्तान के पश्चिमोत्तर प्रांत में इमरान ख़ान का मजबूत जनाधार है.

अभी यह स्पष्ट नहीं है कि ये विमान हथियारों से लैस हैं या नहीं.

पाकिस्तान ने आतंकियों को बेहतर तरीके से निशाना बनाने के लिए अमरीका से हथियारों से लैस ड्रोन की मांग की थी लेकिन अमरीका ने मांग खारिज कर दी थी.

पाकिस्तान के ड्रोन प्रोजेक्ट से जुड़े लोग बताते हैं कि अभी सटीक निशाना और अत्याधुनिक तकनीक उस स्तर की विकसित नहीं हो पाई है कि इसकी अमरीकी ड्रोन से तुलना की जाए.

यदि यह तकनीक पाकिस्तान को मिल भी जाए तो इसके द्वारा विकसित ड्रोन विमानों में मिसाइल वहन की क्षमता नहीं है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार