मुझे यकीन था मैं सबको क्षमा कर दूंगा: नेल्सन मंडेला

नेल्सन मंडेला

साल 2002 में बीबीसी के डेविड डिमब्लेबी ने नेल्सन मंडेला के साथ कई साक्षात्कार किए. इन साक्षात्कार के दौरान एक महान राजनेता के रूप में देखे जाने वाली इस हस्ती के कई अनोखे पहलूओं के बारे में जानने का मौका मिला. प्रस्तुत है इस वीडियो इंटरव्यू के कुछ ख़ास हिस्से.

नेल्सन मंडेला की डेविड डिमब्लेबी से बातचीत को यहाँ देखें

डेविड: आप क्या सोचते हैं कि जब युवा आपके जीवन का अध्ययन करेंगे तो उन्हें कौन सी सीख लेनी चाहिए?

मंडेला: अगर हमने कोई उपलब्धि हासिल की है तो यह किसी एक व्यक्ति की उपलब्धि नहीं है. ये एक सामूहिक प्रयासों से मिली उपलब्धि है. इनमें कई लोगों का उल्लेख ही नहीं हुआ है. हमारे अपने संगठन में मुझसे अधिक संसाधन सम्पन्न व्यक्ति हैं. अंतर इतना है कि लोगों का ध्यान मुझ पर केन्द्रित है और इसलिए मैं बेहतरीन से भी बेहतर काम करना चाहता हूं.

डेविड: आपकी परवरिश एक मेथॉडिस्ट के रुप में हुई है, क्या आप ईसाई हैं?

मंडेला: एक इंसान और उसके भगवान के बीच संबंध एक निजी मामला है. दुनिया में ऐसी कोई भी ताकत नहीं है जिसकी धर्म से तुलना की जा सकती है. इसलिए मैं इसका सम्मान करता हूं. इसलिए मैं आपसे कहता हूं कि अगर मिशनरी यहां नहीं होते तो आज मैं यहां नहीं होता, क्योंकि इन लोगों ने हमे शिक्षा के रूप में सबसे महत्वपूर्ण हथियार दिया.

डेविड: आप मानते हैं कि भगवान है?

मंडेला: इस बारे में मैं कहता हूं कि यह एक व्यक्ति और उसके भगवान के बीच का निजी मसला है.

डेविड: आपने कहा था कि शुरुआती प्रयासों के कारगर साबित नहीं होने के कारण आपने आतंकवाद और गुरिल्ला युद्ध को अपनाया. अब आप इससे कितना दूर हैं?

मंडेला: हम कभी भी आतंकवाद का हिस्सा नहीं थे. आतंकवाद का अर्थ है कि कोई एक संगठन या राज्य जो निर्देश लोगों को अपना निशाना बनाता है. ये आतंकवाद है और हमने ऐसा कभी नहीं किया. हमारे मुकदमे में यह रिकार्ड है जहां न्यायाधीश ने कहा कि इन लोगों ने इस बात का ख्याल रखा कि एक भी व्यक्ति घायल न हो या उसकी मौत न हो और इसलिए हमें मृत्यु की सज़ा नहीं दी गई. हम इस बात को लेकर बहुत सतर्क थे.

डेविड: रॉबेन द्वीप में कैद के दौरान आपके जीवन में किस तरह के बदलाव आए?

मंडेला: खास बात यह है कि आपको अकेले बैठना और सोचना पड़ता है. ये अपने व्यवहार में बदलाव लाने का बेहतरीन मौक़ा था. मुझे इस बात का अफसोस था कि राजनीति और कानून के कारण मुझे कैदी बनना पड़ा. मैंने कहा कि अगर मुझे बाहर आने का मौका मिला, जिसकी मुझे पूरी उम्मीद थी तो मैं सबको क्षमा कर दूंगा.

डेविड: जेल के दौरान आपकी पत्नी विनी ने काफ़ी संघर्ष किया और उन्हें इसके लिए सज़ा भी मिली. उनके योगदान के बारे में कुछ बताइए.

मंडेला: इसमें कोई संदेह नहीं है कि उस महिला ने इस संघर्ष में अत्यधिक योगदान दिया. एक समय तो ऐसा था जब देश में वो संगठन की धुरी बन गईं थीं. उनके योगदान को कोई भी नकार नहीं सकता है.

डेविड: अपनी 80वीं सालगिरह पर आपने मोज़ांबिक के पूर्व राष्ट्रपति की विधवा ग्राका माशेल से शादी की. आप दोनों के बीच आकर्षण की क्या वजह थी?

मंडेला: इस सवालों पर चर्चा के लिए आप अभी काफ़ी युवा हैं. इन संबंधों की चर्चा मैं अपनी उम्र के लोगों के साथ ही कर सकता हूं. वो एक अद्भुत महिला थीं और एक दूसरे के प्रति आकर्षित होने से पहले से हमारी दोस्ती थी.

डेविड: कई लोग इसे एक रोमांचक प्रेम कहानी मानते हैं, जिसका एक सुखद अंत हुआ. क्या इसे देखने का ये सही नज़रिया है?

मंडेला: मैं इस बारे में कुछ नहीं कह सकता.

डेविड: आपके जन्म स्थान कूनू का आपके लिए क्या महत्व है?

मंडेला: यहां मेरा बचपन बीता है और यहीं मैं बड़ा हुआ हूं. मैं कहीं भी मरूं, लेकिन मुझे दफ़नाया यहीं जाएगा, मेरे अपने घर में.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार