मिलिए उनसे जिसने नेल्सन मंडेला को फ़ौजी बनाया

नेल्सन मंडेला 1962 इथियोपिया

क्या आप जानते हैं कि दक्षिण अफ्रीका के पहले काले राष्ट्रपति और रंगभेद के ख़िलाफ़ लड़ाई के सबसे बड़े नायक नेल्सन मंडेला को छापामार लड़ाई के गुर किसने सिखाये थे?

किसने मंडेला को सिखाया था कि रात के अंधेरे में चुपचाप खिसक जाने से पहले विस्फोटक कैसे लगाया जाता है?

वो शख्स थे इथियोपिया के कर्नल फ़ेकाडू.

वर्ष 1962 में जब उन्होंने मंडेला को छापामार युद्ध का प्रशिक्षण दिया तब वह दंगारोधी पुलिस बल में थे.

कर्नल फ़ेकाडू मंडेला को याद करते हुए कहते हैं, ''वे विनम्र, सदा प्रसन्न रहने वाले और कभी अपना आपा न खोने वाले व्यक्ति थे.''

"मंडेला ख़ुद हंसने और दूसरों को हंसाने में भी माहिर थे."

मंडेला इथियोपिया में अफ्रीकी नेशनल कांग्रेस या एएनसी की हथियारबंद शाखा के कमांडर-इन-चीफ़ बनने के लिए प्रशिक्षण ले रहे थे. वह 1961 में गुपचुप और अवैध तरीके से दक्षिण अफ्रीका ने निकल भागे थे.

Image caption कर्नल फेकाडू कहते हैं कि मंडेला एक अच्छे छात्र थे

अलग पहचाने जाते थे

मंडेला इथियोपिया के सम्राट के निमंत्रण पर वहां गये थे जो अफ्रीका को औपनिवेशिक चंगुल से मुक्त कराने और उसकी एकजुटता के हिमायती थे.

उन दिनों अफ्रीका में इथियोपिया की फौज सबसे ताकतवर होती थी.

कर्नल फेकाडू छापामार लड़ाई का प्रशिक्षण देते थे.

वह कहते हैं, ''नेल्सन मंडेला बड़े मज़ूबत और अच्छे छात्र थे. वे निर्देशों को ठीक तरह से सुनते थे.''

प्रशिक्षण के दिनों को याद करते हुए वे कहते हैं, ''हम ये जानते थे कि मंडेला हमारे अतिथि हैं, विदेश से आए हैं और कुछ समय हमारे साथ बिताने वाले हैं. हर बात गुप्त रखी जाती थी.''

मंडेला के प्रशिक्षण में तोड़फोड़ के तरीकों की जानकारी के अलावा ये भी शामिल था कि सैन्य विज्ञान क्या होता है, सेना का संचालन कैसे किया जाता है और बंदूक कैसे चलाई जाती है.

अदिस अबाबा में मंडेला की मौजूदगी को राज़ रखा गया था. लेकिन अपनी कद-काठी से वे पकड़ में आ जाते थे.

Image caption इथियोपिया के जनरल टाडेसे बिरु ने मंडेला के दक्षिण अफ़्रीका लौटते वक्त उन्हें एक पिस्तौल दी थी

मंडेला बाकी पुलिस कैडेटों की तुलना में ज्यादा लम्बे और हट्टे-कट्टे थे.

यहां मंडेला का प्रशिक्षण छह महीने तक चलना था लेकिन उन्हें दो महीने बाद ही एएनसी ने वापस बुला लिया था.

वजह ये थी कि मंडेला सात महीने से देश से बाहर थे और देश में उनकी वापसी की राह देखी जा रही थी.

मंडेला को पांच अगस्त 1962 को गिरफ्तार कर लिया गया था क्योंकि उन्होंने अवैध तरीके से देश छोड़ा था.

लेकिन तब तक वे इथियोपिया की बदौलत सैन्य तौर-तरीकों में माहिर हो चुके थे.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार