थाईलैंड: पीएम ने इस्तीफे की मांग ठुकराई

मंगलवार को संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करने के दौरान थाई प्रधानमंत्री यिंगलक भावुक हो गईं

थाईलैंड की प्रधानमंत्री यिंगलक चिनावाट ने फरवरी में होने वाले आम चुनावों से पहले इस्तीफे की मांग ठुकरा दी है.

सरकार विरोधी प्रदर्शनकारी यिंगलक से इस्तीफा देने की मांग कर रहे हैं ताकि एक ''पीपुल्स प्राइम मिनिस्टर'' बनाया जाए सके जिसकी देखरेख में चुनाव हों.

मंगलवार को संवाददाताओं से बातचीत में प्रधानमंत्री ने कहा, ''अगली सरकार कौन सी होगी, इसे चुनने के लिए चुनावी तंत्र का इस्तेमाल करें.''

उन्होंने कहा, ''संविधान के अनुसार, एक कार्यवाहक प्रधानमंत्री के रूप में मुझे अपना कर्तव्य निभाना होगा.''

यिंगलक संसद भंग कर दो फरवरी को चुनाव कराने की घोषणा कर चुकी हैं.

2011 में हुए पिछले आम चुनाव में यिंगलक ने जीत दर्ज की थी लेकिन प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि यिंगलक की सरकार वो नहीं बल्कि निर्वासन में रह रहे उनके भाई और पूर्व प्रधानमंत्री टकसिन चिनावाट चला रहे हैं.

मंद पड़ा प्रदर्शन

सोमवार को करीब 15,000 प्रदर्शनकारियों ने सरकारी कार्यालयों का घेराव किया. विपक्षी नेता सुथेप थागसुबन का कहना है कि प्रदर्शन जारी रहेंगे.

उनका कहना था कि, ''हम जन प्रधानमंत्री चुनेंगे और एक जन सरकार बनाएंगे और मौजूदा संसद की जगह जन संसद बनाएंगे.''

मंगलवार को सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा और प्रदर्शनकारियों की संख्या बहुत कम दिखी. हालांकि प्रदर्शनकारी सरकारी इमारतों के बाहर अभी भी डेरा जमाए हुए हैं.

यिंगलक की 'फ्यू थाई पार्टी' को संसद में बहुमत हासिल है और थाईलैंड के ग्रामीण इलाकों में उसका बड़ा जनाधार माना जाता है. इसीलिए फरवरी चुनाव में यह फ्यू थाई पार्टी जीत को तय माना जा रहा है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्नेपर भी आ सकते हैं और ट्विटरपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार