स्नोडेन को नहीं मिलेगी माफ़ी

  • 17 दिसंबर 2013

अमरीका की व्हाइट हाउस ने सीआईए के पूर्व ख़ुफ़िया जासूस एडवर्ड स्नोडेन को माफ़ी दिए जाने के विचार को रद्द कर दिया है.

अमरीका की राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा था कि अगर स्नोडेन ख़ुफ़िया दस्तावेज़ सार्वजनिक करना छोड़ दें तो उन्हें माफ़ किए जाने पर विचार किया जा सकता है.

लेकिन व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जे कार्नी ने कहा कि स्नोडेन के खिलाफ़ संवेदनशील दस्तावेज़ लीक करने के अपराधिक आरोप दर्ज़ है.

गोपनीय दस्तावेज़ लीक होने से हुए नुक़सान का आकलन कर रही टीम के प्रभारी रिचर्ड लैजेट ने पहले कहा था किस्नोडेनके साथ माफ़ी का समझौता किया जा सकता है.

स्नोडेन ने अमरीका के गोपनीय निगरानी कार्यक्रम को उजागर किया और वो फिलहाल मॉस्को में रह रहे हैं.

माफ़ी का विचार

लैजेट ने अमरीकी टीवी चैनल सीबीएस को संभावित माफ़ी के बारे में बताया था कि, ''यह मेरा व्यक्तिगत विचार है, और इस तरह की बातचीत की जा सकती है.''

उन्होंने कहा था, ''मुझे इस बात के आश्वासन की जरूरत होगी कि बाक़ी बची जानकारी सुरक्षित रहेगी.''

वहीं अगले साल रिटायर होने वाले एनएसए निदेशक जनरल कीथ एलेक्जेंडर ने कहा, ''स्नोडेन को माफ़ी देना उसी तरह है जिस तरह कोई अपहरणकर्ता 50 लोगों को बंधक बना लेता है, दस लोगों को मार देता है और फिर कहता है कि अगर उसे माफ़ कर दो, तो वो बाक़ी 40 लोगों को छोड़ देगा.''

Image caption लैजेट ने दिए माफ़ी के संकेत

कुछ दिनों पहले समाचार एजेंसी रॉयटर्स को दिए गए इंटरव्यू में लैजेट ने कहा था कि कि वो बेहद महत्वपूर्ण उन लगभग 1.7 बिलियन दस्तावेजों को लेकर बहुत चिंतित हैं, जो सार्वजनिक नहीं हुए हैं और स्नोडन की उन तक पहुंच हो सकती है.

लैजेट ने रॉयटर्स से कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी स्नोडेन की तरफ से जानकारियां लीक करने से हिल गई थी.

इतिहास में पहली बार

इसी महीने ब्रिटेन के एक अख़बार ने ब्रितानी सांसदों को बताया था कि उसने स्नोडेन की ओर से लीक की गई फ़ाइलों में से सिर्फ़ एक प्रतिशत को ही प्रकाशित किया है.

बीबीसी संवाददाता सुजान कीयनपोर के मुताबिक अमरीका के विदेश मंत्रालय का कहना है कि उनका रुख़ बदला नहीं है और स्नोडेन को आरोपों का सामना करने के लिए अमरीका वापस आना चाहिेए.

अमरीकी सरकार ने स्नोडेन पर अमरीकी सरकारी संपत्ति की चोरी, राष्ट्रीय सुरक्षा सूचना के अनाधिकृत संचार और जानबूझ कर वर्गीकृत खुफिया सामग्री को उजागर करने के आरोप लगाए हैं.

इनमें से हर अपराध के लिए अधिकतम दस साल की सजा है.

सप्ताहांत पर पहली बार ऐसा हुआ है जब अमरीकी सुरक्षा एजेंसी ने सीबीएस टेलीविजन की टीम को अपने मुख्यालय में जाने की अनुमति दी, ताकि उन्हें ये पता चले कि जमा की गई जानकारी का एजेंसी क्या इस्तेमाल करती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार