दक्षिणी सूडानः सेना के गुटों में संघर्ष, सैकड़ों की मौत

सल्वा किर
Image caption रिपोर्ट के मुताबिक राष्ट्रपति सल्वा कीर के तख़्तापलट की कोशिश की गई.

दक्षिणी सूडान में सेना के प्रतिद्वंद्वी गुटों के बीच चल रहे संघर्ष में सैंकड़ों लोग मारे गए हैं. यह जानकारी संयुक्त राष्ट्र ने अपने अपुष्ट रिपोर्टों के हवाले से दी है.

संयुक्त राष्ट्र राजनयिकों ने बताया कि उन्हें राजधानी जुबा में सूत्रों से खबर मिली है कि मृतकों की संख्या 400 से 500 के बीच पहुंच चुकी है.

राष्ट्रपति सल्वा कीर के तख़्तापलट की कोशिशों की रिपोर्टों के बाद पिछले दो दिनों से भीषण संघर्ष जारी है.

सूत्रों के अनुसार यह संघर्ष दक्षिणी सूडान की दो सबसे बड़ी जातीय समूहों नुएर और डिन्का के बीच गहरे मतभेद के कारण हो रहे हैं.

भगोड़े विपक्षी नेता रियेक मचर ने सरकार के उस आरोप से इनकार किया है जिसमें कहा गया है कि उन्होंने सत्ता पर कब्जा करने की कोशिश की.

भारी क्षति

Image caption इस संघर्ष को दो जनजातीय समूहों के बीच गहरे मतभेद का परिणाम बताया जा रहा है.

रियेक मचर ने पेरिस स्थित समाचार वेबसाइट, सूडान ट्रिब्यून के साथ हुई एक बातचीत में बताया है, "जुबा में हो रहे संघर्ष तख़्तापलट के किसी प्रयास का परिणाम नहीं है. बल्कि यह सब राष्ट्रपति के गार्डों के बीच उनकी आपसी गलतफ़हमी के कारण हो रहा है."

जुलाई में राष्ट्रपति से अलग हो चुके दक्षिणी सूडान के पूर्व उपराष्ट्रपति रेयक मचर ने आगे कहा है कि उन्हें किसी तख्तापलट की जानकारी नहीं है.

वहीं राष्ट्रपति कीर ने बताया कि मचर का समर्थन करने वाले सैनिकों के एक समूह ने रविवार की रात उनसे जबरन सत्ता हथियाने की कोशिश की, मगर वे इसमें कामयाब नहीं हो सके.

सोमवार और मंगलवार को जारी संघर्षों के दौरान सरकार ने एक बयान जारी कर कहा है कि अब तक पूर्व वित्त मंत्री सहित 10 वरिष्ठ राजनीतिक हस्तियों को गिरफ़्तार किया जा चुका है.

हालांकि इन संघर्षों के बारे में पूरी जानकारी सामने नहीं आ रही है. लेकिन न्यूयार्क में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की एक बैठक में बताया गया कि जातीय गुटों में ये संघर्ष बड़े पैमाने पर सामने आ रहे हैं.

'गृह युद्ध'

संयुक्त राष्ट्र में फ्रांसीसी राजदूत गरार्ड अराउद ने कहा है कि करीब 20,000 लोगों ने जुबा में संयुक्त राष्ट्र अभियान के दौरान शरण ली है.

अरनाउद ने बीबीसी को बताया, "कुछ रिपोर्ट में तो बताया गया है कि सैंकड़ों लोग घायल हुए हैं. फिलहाल हम इन आंकड़ों की पुष्टि नहीं कर सकते. फिर भी मृतकों की संख्या बहुत ज्यादा है."

उनका कहना है कि नुएर और डिन्का के बीच हो रहा यह संघर्ष 'गृह युद्ध' का भी रूप ले सकता है.

हालांकि दक्षिणी सूडान के यूनिटी स्टेट के गवर्नर साईमन कुअन पाउच ने सरकारी वेबसाइट पर लिखा है कि इन जनजातियों का वर्तमान में चल रहे संघर्षों से कोई लेना देना नहीं है.

संयुक्त राष्ट्र ने अपने दूतावास के गैर जरूरी कर्मचारियों को तुरंत देश छोड़ने को कहा है.

भूमिगत

Image caption विपक्षी नेता रियेक मचर ने तख्तापलट के आरोपों से इनकार किया है.

सरकारी अधिकारियों का कहना है कि वे मचर को खोज रहे हैं, जिनके बारे में कहा जा रहा है कि वे कहीं छिप गए हैं.

सूचना मंत्री माइकल मकुई लुथ ने बीबीसी को बताया कि रविवार को जब से गोलीबारी की घटना हुई तभी से उनका कोई अता-पता नहीं है.

उन्होंने कहा कि एसपीएलएम के भीतर असंतुष्ट गुट का प्रतिनिधित्व करने वाले मचर के बारे में कहा जा रहा है कि वे किसी सैनिक समूह के साथ भाग गए हैं.

सरकार ने बताया है कि गिरफ्तार 10 लोगों में पूर्व वित्त मंत्री, पूर्व न्याय मंत्री और पूर्व गृहमंत्री भी शामिल हैं. गिरफ्तार लोगों में से कई लोग उस कैबिनेट के सदस्य हैं जिसे पूरी तरह जुलाई में बर्खास्त कर दिया गया था.

साल 2011 में सूडान से आज़ाद होने के बाद से ही दक्षिणी सूडान में राजनीतिक स्थिरता नहीं आई है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार