समलैंगिकों के लिए खुला एक और दरवाजा

बीबीसी न्यूज, अमरीका स्काउट्स

अमरीका में समलैंगिक लोगों के अधिकारों से संबंधित एक ऐतिहासिक फ़ैसले के बाद पहली जनवरी सन 2014 से समलैंगिक युवा भी अमरीका की मशहूर युवा संस्था 'बॉय स्काउट्स ऑफ़ अमरीका' में सदस्यता हासिल कर सकते हैं.

'बॉय स्काउट्स ऑफ़ अमरीका' संस्था अमरीका में युवाओं की चर्चित संस्था है. जिसमें युवाओं को सामाजिक औऱ शैक्षिक कार्यक्रमों के ज़रिए समाज का बेहतर सदस्य बनाने की कोशिश की जाती है.

एक सौ तीन साल पुरानी इस संस्था में अब तक समलैंगिकों की सदस्यता पर प्रतिबंध था.

'बॉय स्काउट्स ऑफ़ अमरीका' के अध्यक्ष वेन पेरी बताते हैं कि संस्था में समलैंगिकोंको सदस्यता न देने संबंधी नीति की समीक्षा की गई थी.

वह कहते हैं, "बॉय स्काउट्स ऑफ़ अमरीका का समलैंगिकता के सिलसिले में कोई एजेंडा नहीं है. संस्था ने व्यापक सर्वेक्षण कराए थे. संस्था के तौर पर हम सबको साथ मिलकर काम करना चाहिए जिससे बच्चों औऱ युवाओं को बेहतर नागरिक बनाने में मदद मिले."

भारी बदलाव

समलैंगिक लोगों के अधिकारों को लेकर अमरीकी समाज में पिछले कुछ सालों में भारी बदलाव देखने में आया है.

अब अधिकतर अमरीकी लोग समलैंगिकों को भी अधिकार दिए जाने की हिमायत करते हैं.

हाल में अमरीकी सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक फ़ैसले में समलैंगिक शादियों को वही दर्जा देने का ऐलान किया, जो एक मर्द और औरत के बीच शादी को मिलता है.

सर्वेक्षण से बदला फैसला

सौ साल से अधिक समय से चले आ रहे अपने फैसले को बदलने से पहले बॉय स्काउट्स ऑफ़ अमरीका संस्था ने कई सर्वेक्षण कराए.

डैन जूडी, नार्थ स्टार नामक उस सर्वेक्षण संस्था के उपाध्यक्ष हैं, जिसने बॉय स्काउट्स के लिए ये सर्वेक्षण कराए.

सर्वेक्षण के नतीजे के बारे में डैन जूडी कहते हैं," एक अहम सवाल पर माता-पिता, युवा और स्काउटिंग करने वालों में आम राय पाई गई, जिसमें पूछा गया था कि क्या किसी भी लड़के को बॉय स्काउट्स में इनाम के तौर पर ऊंची पदवी देने पर सिर्फ़ इसलिए मना किया जा सकता है कि वह समलैंगिक है या नहीं."

जब सर्वेक्षणों से पता चला कि अधिकतर लोग समलैंगिकों को सदस्यता देने पर प्रतिबंध के खिलाफ़ हैं तो पिछले वर्ष मई में संस्था की समिति ने इस मुद्दे पर एक प्रस्ताव पारित किया. बॉय स्काउट्स में समलैंगिक लड़कों को शामिल करने की इजाज़त दे दी गई.

बॉय स्काउट्स ऑफ़ अमरीका द्वारा नीति में बदलाव पर संस्था की राष्ट्रीय समिति के उपाध्यक्ष नेथन रोज़नबर्ग ने कहा,"हमारे लिए सबसे अहम हैं बच्चे, हम जानते हैं कि बच्चों के लिए अच्छा है कि वह स्काउट्स के साथ रहें. इसीलिए बॉय स्काउट्स ने आखिर में यही फ़ैसला लिया कि बॉय स्काउट्स संस्था में सभी लड़कों को सदस्यता दी जाए."

हांलाकि बॉय स्काउट्स में सदस्यता के लिए समलैंगिक व्यस्कों पर पाबंदी जारी रहेगी.

नेथन रोज़नबर्ग ने साफ़ किया कि किसी दबाव में सदस्यता की नीति में बदलाव नहीं किया गया.

नाराज़गी भी

कुछ लोग 'बॉय स्काउट्स ऑफ़ अमरीका' द्वारा समलैंगिकोंको सदस्यता देने पर नाराज़ भी हैं.

बॉय स्काउट्स के पूर्व सदस्य बॉब क्लेटन इस फैसले के खिलाफ़ हैं, वह कहते हैं,"बॉय स्काउट्स ऑफ़ अमरीका ने अपनी परंपराएं तोड़ी हैं. यह संस्था अपने ही कानून और शपथ से मुकर गई है. खासकर देश और ईश्वर के प्रति जो सबसे सही काम हो, वही करने और नैतिकता पर अडिग रहने की जो शपथ थी, उसके तोड़े जाने पर मुझे आपत्ति है."

अमरीका के दक्षिणी राज्यों में रहने वाले कुछ रूढ़िवादियों ने मिलकर बॉय स्काउट्स जैसी ही लेकिन रूढिवादी संस्कारों वाली संस्था बनाने का ऐलान किया है.

ट्रेल लाइफ़ यूएसए नामक एक नई संस्था बनाई गई है, जिसमें उन लोगों को सदस्य बनाया जा रहा है जो बॉय स्काउट्स द्वारा समलैंगिकों को सदस्यता देने के फ़ैसले के खिलाफ़ हैं और बॉय स्काउट्स की सदस्यता छोड़ चुके हैं.

ट्रेल लाइफ़ यूएसए के एक आयोजक मैट बार्बर अमरीकियों से इस नई संस्था में शामिल होने की अपील करते हुए कहा ,"अपने बच्चों को इसमें शामिल करें, खुद भी शामिल हों, वालंटीयर की हैसियत से शामिल हों. इसमें केजी से 12वीं कक्षा तक के लड़के शामिल हो सकते हैं."

'बॉय स्काउट्स ऑफ़ अमरीका' अमरीकी संस्कृति का अहम हिस्सा भी मानी जाती है. इसमें करीब 15 लाख सदस्य हैं.

यह संस्था विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम चलाती है, जिनमें शैक्षिक और समाज कल्याण के काम शामिल होते हैं. ये छोटी उम्र से ही बच्चों को देश का अच्छा नागरिक बनाने के लिए काम करती है.

इस संस्था में अमरीका के तकरीबन हर वर्ग के लोग हिस्सा लेते हैं. इस समय बहुत से अमरीकी कांग्रेस के सदस्य, नासा के वैज्ञानिक, कई राज्यों के मौजूदा गवर्नर और यहां तक कि अमरीकी उपराष्ट्रपति जो बाईडन और संसद के स्पीकर जॉन बेनर भी बॉय स्काउट्स ऑफ़ अमरीका के सदस्य रह चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार