पाकिस्तान: एतज़ाज़ हसन को बहादुरी पुरस्कार की सिफारिश

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने आत्मघाती हमलावर को स्कूल पर हमला करने से रोकने की कोशिश में मारे गए नौवीं कक्षा के छात्र एतज़ाज़ हसन को बहादुरी पुरस्कार से सम्मानित किए जाने की सिफारिश की है.

प्रधानमंत्री ने उन्हें सितारा-ए-शुजात से सम्मानित करने के लिए राष्ट्रपति ममनून हुसैन को पत्र लिखा है.

प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी किए गए बयान में कहा गया है कि एतज़ाज़ हसन के साहसी कदम की वजह से न केवल सैकड़ों छात्रों की जान बच गई बल्कि उन्होंने बहादुरी और देशभक्ति उच्च मिसाल कायम की है.

इससे पहले,शुक्रवार को पाकिस्तानी संसद के ऊपरी सदन ने कराची में चरमपंथी हमले में मारे गए सिंध पुलिस अधिकारी चौधरी असलम और हंगो में स्कूल पर आत्मघाती हमले की कोशिश नाकाम बनाते हुए जान देने वाले छात्र एतज़ाज़ हसन को श्रद्धांजलि अर्पित की.

खैबर पख्तूनख्वा के पुलिस प्रमुख ने भी राज्य सरकार से सिफारिश की है कि बहादुरी का प्रदर्शन करने एतज़ाज़ हसन उच्च नागरिक पुरस्कार के लिए नामित किया जाए.

हंगू के इब्राहीम ज़ई स्कूल में नौवीं कक्षा के छात्र एतज़ाज़ हसन ने पिछले सोमवार को अपने स्कूल में आत्मघाती हमला करने का इरादा रखने वाले लड़के को रोकने की कोशिश की थी और इसी दौरान विस्फोट से उनकी और हमलावर दोनों की मौत हो गई थी लेकिन स्कूल आपदा से बच गया था.

एतज़ाज़ हसन के चचेरे भाई मुदस्सर बंगश एडवोकेट ने बीबीसी को बताया कि सोमवार की सुबह एतज़ाज़ स्कूल जा रहे थे, तभी रास्ते में स्कूल की वर्दी पहने हुए एक युवक ने उनसे सरकारी हाई स्कूल का पता पूछा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार