क्या ये प्यार की भाषा है?

गाएत, ओलांद इमेज कॉपीरइट afp

बीबीसी संवाददाता ह्यू शेफ़िल्ड कहते हैं कि फ़्रांस की राजनीतिक प्रेम कहानी को देख रहे लोग मीडिया में आए कुछ शब्दों के कारण कौतूहल से भर गए होंगे. उदाहरण के लिए फ़्रांस के राष्ट्रपति के प्रवक्ता के इस बयान का क्या मतलब निकाला जाए कि राष्ट्रपति की संगिनी वालेरी त्रिएरवील 'दुख की शिकार' हो गई हैं?

ला ब्लूज़ का मतलब (अंग्रेज़ी की तरह) ग़म या निराशा होता है. 'कू डी ब्लूज़' का मतलब होता है निराशा का दौरा पड़ना, अचानक निराश हो जाना. वालेरी त्रिेएरवील के लिए इसके इस्तेमाल का मतलब है उनके दुख को कम कर के आंकना. निराश हो कर तो सामान्य रूप से लोग अस्पताल नहीं जाते.

कुछ लोगों का कहना है कि त्रिएरवील, राष्ट्रपति ओलांद और उनकी कथित नई प्रेमिका ज़ूली गाइए 'गोश कैवियार' हैं, यानी ऐसे समाजवादी हैं जो समाजवादियों के तौर-तरीक़े नहीं निभाते और कैवियार जैसे महंगे व्यंजन खाते हैं यानी जिनकी विचारधारा उनके रहन-सहन से मेल नहीं खाती.

ये लोग पैसे कमाने को नफ़रत की नज़र से देखते हैं लेकिन पैरिस के र्यू डी सर्क इलाक़े में घर होना सामान्य बात समझते हैं. ये वही इलाक़ा है जहां राष्ट्रपति भवन, एलिज़े पैलेस है. यही वो इलाक़ा है जहां ज़ूली गाइए को अभिनेत्री एमानुएल ऑक ने फ़्लैट दिया था ताकि कथित रूप से उनके प्रेम प्रसंग में मदद मिले.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption एलिज़े पैलेस का पिछला और भव्य दरवाज़ा

वैसे अगर ये ओलांद का फ़्लैट होता तो 'पिएड-ए-टेयर' यानी अस्थायी घर नहीं होता बल्कि एक 'गार्कोनिये' यानी किसी कुंवारे शख़्स का घर होता.

निजी दरवाज़ा: ग्रिल डू कॉक

इस बीच ओलांद 'एस्केपेड्स डिस्क्रीट' यानी चुप-चुप के दुस्साहस करने में व्यस्त थे. इस हिचकिचाहट भरी अभिव्यक्ति का इस्तेमाल फ़्रांस की पत्रिका ला एक्सप्रेस ने कुछ हफ़्ते पहले किया था. मक़सद था ओलांद के रूमानी दुस्साहसों को बताना.

ला एक्सप्रेस को पता था कि राष्ट्रपति क्या कर रहे हैं लेकिन वह ये बताना नहीं चाहती थी - उसने इस काम को बड़ी हस्तियों के निजी जीवन के बारे में ख़बर छापने वाले पत्रकारों पर छोड़ दिया था.

फ़्रांस के लोगों को 'ग्रिल डू कॉक' के बारे में भी पता चला है. ये वो सुंदर सा काला धातु का दरवाज़ा है जिस पर एक बड़ी सी चिड़िया बनी हुई है. ये एलिज़े गार्डंस के आख़िर में है, ला एक्सप्रेस के मुताबिक इससे होकर राष्ट्रपति कभी-कभी बचकर निकल जाते थे.

बाकी वक़्त वो 'ट्रा रूए', एक शक्तिशाली स्कूटर जिसके आगे दो पहिये और पीछे एक पहिया होता है, से जाते थे. ट्रैफ़िक से जूझते पेरिस में इनका इस्तेमाल अक्सर मध्य क्रम के कर्मचारी कारोबारी बैठकों में जाने के लिए करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार