फ्रांसुआ ओलांदः जग में खिंचाई, घर में तारीफ़

फ़्रांसुआ ओलांद इमेज कॉपीरइट AFP

अंतरराष्ट्रीय मीडिया जहां फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद से शिकायत कर रहा है कि वह अपने कथित प्रेम संबंधों को लेकर चुप हैं लेकिन फ़्रांसीसी मीडिया आर्थिक मामलों को लेकर उनकी नीतियों को लेकर उनकी तारीफ़ कर रहा है.

मंगलवार को राष्ट्रपति की प्रेस कॉंफ़्रेंस के बाद फ़्रांसीसी अख़बारों ने ख़बरों में "क्रांतिकारी", "परिवर्तन काल", "उदार" जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया है.

आपूर्ति पक्ष अर्थशास्त्र (सप्लाई साइड इकोनॉमिक्स) के प्रति उनके समर्थन को काफ़ी तारीफ मिल रही है हालांकि कुछ संदेह भी हैं कि क्या ओलांद अपने वादे पूरे कर पाएंगे.

सिर्फ़ कुछ ही अख़बारों ने ओलांद के एक अभिनेत्री के साथ अपने कथित प्रेम संबंधों की ख़बरों पर टिप्पणी से इनकार को उठाया.

"उदार"

वामपंथी विचारधारा वाले अख़बार ली मोंडे को लगता है कि समाजवादी राष्ट्रपति अपनी "सुधारवादी" की छवि से बाहर आ गए हैं और एक "क्रांतिकारी" बन गए हैं जो उस काम में सफल होना चाहता है जिसमें उनके पूर्ववर्ती निकोलस सर्कोज़ी नाकाम हो गए थे.

अख़बार की संपादकीय लेखक फ़्रांसुआ रेसोज़ अपने ब्लॉग पोस्ट में कहती हैं कि मालिकों के साथ एक समझौते का प्रस्ताव और खर्च में भारी कटौती, वामपक्ष के कुछ लोगों के लिए हजम करना मुश्किल होगा.

इमेज कॉपीरइट Getty

लेकिन, "इससे इनकार नहीं किया जा सकता कि इस जोखिम का फ़ायदा मिल सकता है.... क्योंकि ऐसा लगता है कि फ़्रांस क्रांति के लिए तैयार है."

वाम झुकाव वाला अख़बार लिबरेशन ऐलान करता है, "ओलांद उदार हो गए हैं".

फैबरिक रूज़ेलॉट के एक संपादकीय में कहा गया है कि राष्ट्रपति की स्वीकारोक्ति की वह एक समाजवादी लोकतांत्रिक हैं और उनका आपूर्ति-पक्ष नीतियों पर ज़ोर देने का मतलब है कि "कल का हस्तक्षेप उनके पांच वर्षीय कार्यकाल में एक नया अध्याय खोलता है", "राष्ट्रपति की एक असली योजना" के साथ.

दक्षिणपंथी विचारधारा वोले ली फ़िगारो अख़बार में भी ओलांद की "कभी-कभार दिलेर भाषा" की तारीफ़ की गई है. लेकिन पॉल-हेनरी दु लिम्बेर्ट के संपादकीय, जिसका शीर्षक "हाथ की चालाकी" है, में चेतावनी दी गई है कि "मितव्ययिता का दिखावा दरअसल मितव्ययिता नहीं है."

सबसे ज़्यादा बिकने वाले क्षेत्रीय अख़बार आउएस्ट-फ़्रांस को पिछली बार के मुकाबले ओलांद "ज़्यादा ज़िम्मेदार राष्ट्रपति" नज़र आते हैं. बिज़नेस अख़बार ली ईकोज़ का मानना है कि राष्ट्रपति ने "अंततः वह कहा है जिसकी लोगों को उनसे उम्मीद थी."

"मेडेफ़ के राष्ट्रपति"

राष्ट्रपति की सबसे तीखी आलोचना कम्युनिस्ट पार्टी से जुड़े एल'ह्यूमैनिटे में पॉल मैसन ने की है.

इमेज कॉपीरइट AFP

वह उनकी नीतियो की "मितव्ययिता केंद्रित, समाज-विरोधी और आज तक सबसे ज़्यादा बाज़ार केंद्रित" कहकर आलोचना करती हैं. वह कहती हैं कि इसके बाद से ओलांद फ़्रांसीसी नियोक्ताओं के संगठन, मेडेफ़, के राष्ट्रपति माने जाएंगे.

कुछ और शीर्षकों में राष्ट्रपति के अपने कथित प्रेम संबंध पर चुप्पी साधने पर गुस्सा नज़र आता है.

क्षेत्रीय अख़बार कूरियर पिकार्ड के पहले पेज पर ख़बर का शीर्षक है, "ओलांद ने हर चीज़ पर बात की, अपनी निजी ज़िंदगी के अलावा". इसमें अख़बार ने दुख जताया है कि, "हमें यह जानने के लिए इंतज़ार करना होगा कि प्रथम महिला है कौन."

ऑजॉर्ड हुई एन फ्रांस अख़बार ने लिखा है कि राष्ट्रपति "अपनी निजी स्थिति को लेकर बेहद सतर्क" थे.

क्षेत्रीय अख़बार नाइस मैटिन ने मुख्य पृष्ठ पर जो शीर्षक दिया है उसमें प्रेस कॉंफ्रेंस में अपनी निजी ज़िंदगी के बारे में ओलांद के ही शब्दों का इस्तेमाल किया है, "न तो सही जगह है और न ही समय".

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं. बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार