हर दिन '20 करोड़ एसएमएस पर नज़र'

एनएसए इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES

ब्रिटेन के मीडिया में आई ख़बरों में कहा गया है कि अमरीका की राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) दुनियाभर से एक दिन में लगभग 20 करोड़ एसएमएस जुटाती रही है.

गार्डियन अख़बार और चैनल 4 न्यूज़ का कहना है कि एनएसए इन एसएमएस का विश्लेषण करता है और अपने पास सुरक्षित रखता है.

भगोड़े अमरीकी ख़ुफ़िया विश्लेषक एडवर्ड स्नो़डेन द्वारा लीक किए गए दस्तावेज़ों से यह संकेत मिला है.

ये जानकारी ऐसे समय सामने आई है जब अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा इस संबंध में शुक्रवार को एक बयान जारी करने वाले हैं.

एनएसए ने इस बारे में बीबीसी को बताया, ''ये ग़लत है कि एनएसए यह काम बेरोकटोक और मनमाने तरीके से करता है.''

गुरुवार को व्हाइट हाउस ने कहा कि बराक ओबामा ने इस बारे में ब्रितानी प्रधानमंत्री डेविड कैमरन से बात की है.

गार्डियन अख़बार का कहना है कि एनएसए ने ब्रिटेन में रहने वाले लोगों के बारे में भी जानकारी जुटाने का प्रयास किया था.

लेकिन एनएसए का कहना है कि उसने क़ानून के दायरे और नीतिगत ढांचे के तहत ऐसा किया.

मामला निजता का

रिपोर्ट में कहा गया है कि एनएसए का डिशफ़ायर प्रोग्राम, एसएमएस के अलावा मिस्ड कॉल अलर्ट और रोमिंग संबंधी जानकारी का भी विश्लेषण करता है.

इसमें ये भी कहा गया है कि ये प्रोग्राम लोगों के बैंक के ब्योरे, उनके लेनदेन, भुगतान और इलेक्ट्रॉनिक बिज़नेस कार्ड्स के बारे में भी जानकारी जुटाता है.

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

रिपोर्ट में कहा गया है कि एनएसए ने साल 2012 में इस तरह बड़ा डेटाबेस तैयार किया था.

लेकिन एनएसए ने बीबीसी से कहा कि उसकी गतिविधियां का उद्देश्य वैध ख़ुफ़िया आवश्यकताओं की पूर्ति करना था.

एनएसए ने माना है कि हो सकता है कि इस प्रक्रिया में भूलवश अमरीकी नागरिकों के एसएसएस भी जुटाए गए हों, लेकिन पूरी प्रक्रिया के दौरान अमरीकी लोगों की निजता का ख़्याल रखा गया.

ये तमाम जानकारी जिन दस्तावेज़ों से मिल रही है, उन्हें अमरीकी खुफिया कॉन्ट्रैक्टर ने लीक किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार