यूक्रेन के विपक्षी नेता ने कहा, जारी रहेंगे प्रदर्शन

उक्रेन में हिंसा जारी इमेज कॉपीरइट BBC World Service

यूक्रेन में विपक्षी नेता आर्सेनी यातसेन्युक ने कहा है कि राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच की ओर से उन्हें प्रधानमंत्री पद का न्योता देने के बाद भी सरकार विरोधी प्रदर्शन जारी रहेंगे.

देश में पिछले दो महीने से जारी राजनीतिक संकट और हिंसक संघर्ष को रोकने के लिए राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच ने शनिवार को आर्सेनी यातसेन्युक को प्रधानमंत्री पद का न्योता दिया था.

उन्होंने एक दूसरे विपक्षी नेता विताली क्लित्शको को उप-प्रधानमंत्री की कुर्सी भी देने की पेशकश की थी.

इस बीच राजधानी कीव में हिंसक प्रदर्शन जारी है, प्रदर्शनकारियों ने उस बिल्डिंग में घुसने की कोशिश की जिसमें दंगा विरोधी पुलिस का कार्यालय है.

मांगें पूरी हों

यातसेन्युक ने कहा कि विपक्ष आमतौर पर इस प्रस्ताव को स्वीकार करने के पक्ष में है लेकिन चुनाव कराने जैसी उसकी प्रमुख मांगें ज़रूर पूरी की जानी चाहिए.

यातसेन्युक, यूक्रेन की दूसरे सबसे बड़े राजनीतिक दल फ़ादरलैंड के संसदीय दल के नेता हैं, जबकि क्लित्शको उदर मूवमेंट के नेता हैं.

शनिवार को सरकार और विपक्ष के नेताओं के बीच हुई बातचीत के बाद राष्ट्रपति ने ये पेशकश की.

ताज़ा विरोध प्रदर्शन की शुरूआत नवंबर 2013 में हुई जब सरकार ने यूरोपीय संघ के साथ और अधिक सहयोग संबंधी एक समझौते पर दस्तख़त नहीं करने का फ़ैसला किया.

इसके ठीक उलट सरकार ने पड़ोसी देश रूस से अपने संबंधों को और अधिक मज़बूत करने का फ़ैसला किया.

यातसेन्युक, पूर्व प्रधानमंत्री यूलिया तीमोशेन्को के राजनीतिक सहयोगी हैं जो फ़िलहाल जेल में बंद हैं.

इस्तीफ़े की मांग

यूक्रेन की मीडिया के अनुसार यानुकोविच ने राष्ट्रपति के अधिकारों को कम करने के लिए मौजूदा संविधान को बदलने पर भी अपनी सहमति जता दी है.

लेकिन विपक्ष, राष्ट्रपति के इस्तीफ़े की मांग कर रहा है.

शनिवार को क़ानून और न्याय मंत्री ओलेना लूकाश ने एक बयान जारी कर कहा कि राष्ट्रपति ने विताली क्लित्शको को सार्वजनिक रूप से बातचीत का न्यौता दिया है ताकि इस मुद्दे पर एक वृहद बातचीत हो सके और क्लित्शको ने इसे स्वीकार कर लिया है.

इससे पहले यूक्रेन के आंतरिक मंत्री ने कहा था कि प्रदर्शनकारियों से बातचीत विफल हो गई है.

शुक्रवार को प्रदर्शनकारियों ने राजधानी कीएफ़ के बाहर कई शहरों में सरकारी इमारतों पर क़ब्ज़ा कर लिया था. शनिवार को विरोध प्रदर्शन कई और शहरों में फैल गया.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार