भारतीय मूल के सत्या नडेला माइक्रोसॉफ़्ट के नए सीईओ

  • 4 फरवरी 2014
सत्या नडेला इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सत्या नडेला के नाम को लेकर अटकलें तेज़ थीं

तकनीक जगत की जानी-मानी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने भारतीय मूल के सत्या नडेला को नए सीईओ बनाने की घोषणा की है. वह स्टीव बामर की जगह लेंगे.

नडेला फिलहाल माइक्रोसॉफ़्ट के 'क्लाउड एंड एंटरप्राइज़' के प्रमुख हैं. ये विभाग कंपनी के कंप्यूटिंग प्लेटफॉर्म और डेवेलपर उपकरणों को बनाता और चलाता है.

अगस्त में बामर ने कहा था कि वह अगले 12 महीनों में सेवानिवृत्त हो जाएंगे. माइक्रोसॉफ्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी यानी सीईओ पद के लिए अलग-अलग उद्योगों के लोगों के नाम को लेकर चर्चा गर्म रही.

माइक्रोसॉफ्ट ने यह भी जानकारी दी है कि बिल गेट्स कंपनी के चेयरमैन का पद छोड़ने वाले हैं. गेट्स जल्दी ही तकनीकी सलाहकार की भूमिका में नजर आएंगे.

माइक्रोसॉफ्ट के प्रमुख स्वतंत्र निदेशक जॉन टॉमसन गेट्स की जगह कंपनी के चेयरमैन होंगे.

थॉम्पसन माइक्रोसॉफ्ट के नए सीईओ नियुक्त करने के लिए बनाई गई कमिटी की अगुआई कर रहे थे. उन्होंने पिछले साल बयान दिया था कि इस पद क लिए 100 से भी ज्यादा उम्मीदवारों के नाम प्रस्तावित हैं.

काबिल नेतृत्व

46 वर्षीय नडेला माइक्रोसॉफ्ट के 39 साल पुराने इतिहास में तीसरे सीईओ होंगे. भारत में जन्मे नडेला इस कंपनी से 1992 में जुड़े. उनके पास इलेक्ट्रॉनिक, कंप्यूटर साइंस और बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन की डिग्री मौजूद है.

बिल गेट्स ने नडेला के नए सीईओ बनाए जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "परिवर्तन के इस दौर में माइक्रोसॉफ्ट का नेतृत्व करने के लिए सत्या नडेला से बेहतर कोई और व्यक्ति नहीं हो सकता है."

उन्होंने खुशी जाहिर करते हुए कहा, "सत्या में इंजीनियरिंग कौशल, व्यापारिक दूरदर्शिता और लोगों को एक साथ लाने की काबलियत कूट कूट कर भरी है. तकनीक के बारे में उनके दृष्टिकोण का लाभ मिलेगा. माइक्रोसॉफ्ट नए उत्पादों और विकास की राह में नित नई ऊंचाइयों को छूने की ओर अग्रसर है. ऐसे में सत्या के अनुभव कंपनी के लिए काफी फायदेमंद साबित होंगे."

कंपनी के नए सीईओ ने कहा, "माइक्रोसॉफ्ट उन कई दुर्लभ कंपनियों में से है जिसने तकनीक के माध्यम से दुनिया में क्रांति ला दी है. और ऐसी धुरंधर कंपनी का नेतृत्व करना मेरे लिए सम्मान की बात होगी. "

सत्या नडेला ने आगे कहा, "माइक्रोसॉफ्ट के आगे आगे बढ़ने की असीम संभावनाएं मौजूद हैं. इन संभावनाओं का लाभ उठाने के लिए जरूरी है कि हमारा लक्ष्य स्पष्ट हो, हम तेजी से आगे बढ़ें और खुद में बदलाव लाना जारी रखें. अपने ग्राहकों के लिए जल्दी जल्दी नए उत्पाद बनाने की योग्यता में इजाफा करना मेरे काम का बड़ा हिस्सा है."

निवेशक अरसे से तकनीक क्षेत्र की दिग्गज कंपनी का नेतृत्व बदलने की मांग कर रहे थे. उनका कहना था कि कंपनी को ज्यादा प्रगतिशील और लाभकारी बनाने के लिए इसमें आमूल परिवर्तन करने की जरूरत है.

वैसे, आलोचकों ने नडेला की योग्यता पर उंगली उठाई है. उनका मानना है कि सत्या नडेला को माइक्रोसॉफ्ट जैसी बड़ी कंपनी चलाने का कोई अनुभव नहीं है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार