मिल सकेंगे कोरिया के बिछड़े परिवार

  • 5 फरवरी 2014
युद्ध के बाद बिछड़े दक्षिण और उत्तर कोरियाई परिवारों का पुनर्मिलन Image copyright AFP

कोरियाई युद्ध के बाद बिछड़े परिवारों के दोबारा मिलने के कार्यक्रम को फिर से शुरू करने के मुद्दे पर उत्तर और दक्षिण कोरिया के बीच सहमति बन गई है. दोनों देशों के प्रतिनिधियों ने सीमावर्ती गांव पान्मुनजोम में बातचीत की.

बिछड़े परिवारों के मिलन का कार्यक्रम फ़रवरी में ही आयोजित किया जाएगा.

तीन साल पहले दोंनो देशों के बीच रिश्ते बिगड़ने के बाद परिवारों के मिलने का कार्यक्रम रोक दिया गया था.

दोनों देशों के बीच रिश्ते सुधारने के उत्तर कोरिया के आह्वान के बाद ये कदम उठाया जा रहा है.

दक्षिण कोरिया के दल के प्रमुख ली डुक-हाएंग ने कहा है कि वे भविष्य में पुनर्मिलन कार्यक्रमों की समय-सारणी जैसे मुद्दों का हल निकालने की ''पुरज़ोर कोशिश'' करेंगे.

इससे पहले उत्तर कोरिया ने सितंबर 2013 में एक पूर्व आयोजित पुनर्मिलन रद्द कर दिया था.

मौजूदा बातचीत ऐसे समय में हुई है जब इस महीने अमरीका और दक्षिण कोरिया का सालाना संयुक्त सैन्य अभ्यास होने वाला है.

बिछड़े परिवार

कोरियाई युद्ध साल 1950 से 1953 के बीच लड़ा गया था जिसमें लाखों परिवार बिछड़ गए थे.

युद्ध में बिछड़े परिवार पिछले सालों में समय-समय पर उत्तर कोरिया में कुछ देर के लिए मिलते हैं और फिर वापस उत्तर कोरिया में अपने घर लौट जाते हैं.

नवंबर 2010 में उत्तर कोरिया द्वारा दक्षिण कोरिया के एक सीमावर्ती द्वीप पर गोलीबारी के बाद परिवारों के मिलने का ये कार्यक्रम रोक दिया गया था.

सितंबर 2013 में उत्तर ने दक्षिण कोरिया के ''विरोध'' को ज़िम्मेदार ठहराते हुए 100 परिवारों के मिलने का पूर्व-नियोजित कार्यक्रम रद्द कर दिया था.

सफलता पर सवाल

Image copyright AFP
Image caption तीन साल पहले दोंनो देशों के बीच रिश्ते बिगड़ने के बाद परिवारों के मिलने का कार्यक्रम रोक दिया गया था.

आंकड़ों के मुताबिक लगभग 72 हज़ार दक्षिण कोरियाई नागरिकों के नाम उस सूची में हैं जो उत्तर में रह रहे अपने परिवारों से मिलने के मौके का इंतज़ार कर रहे हैं. इनमें से करीब आधे लोगों की उम्र 80 साल से ज़्यादा हो चुकी है.

लेकिन इस कार्यक्रम के लिए हर साल महज़ कुछ सौ लोग ही चुने जाते हैं. दोनों पड़ोसी देश के नागरिक एक दूसरे से चिट्ठी-पत्री, ईमेल या फ़ोन से संपर्क नहीं कर सकते इसलिए ज़्यादातर लोगों को ये भी नहीं पता कि सरहद के पार रह रहे उनके रिश्तेदार ज़िंदा भी हैं या नहीं.

सियोल में मौजूद बीबीसी संवाददाता लूसी विलयम्सन के मुताबिक कि बिछड़े हुए परिवारों के पुनर्मिलन का मुद्दा कई महीनों के बाद फिर से उठाया गया है.

लेकिन इस महीने अमरीकी और दक्षिण कोरियाई सुरक्षाबलों के सैन्य अभ्यास के मद्देनज़र ये नई दोस्ती कितने दिन निभेगी, इस बारे में सवालिया निशान हैं.

साल 2013 में अमरीका और दक्षिण कोरिया के फोल ईगल नाम के संयुक्त सैन्य अभ्यास की वजह से उत्तर और दक्षिण कोरिया के बीच तनाव बढ़ गया था.

सैन्य अभ्यास के दौरान परमाणु-हथियारों से लैस अमरीकी स्टेल्थ विमानों ने कोरियाई प्रायद्वीप के ऊपर उड़ान भरी थी. जवाब में उत्तर कोरिया ने प्रीएम्पटिव यानी ख़ुद ही पहले परमाणु हमले की धमकी दी थी.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार