यूक्रेन ने रुस पर उकसाने के आरोप लगाए

इमेज कॉपीरइट AFP

यूक्रेन के कार्यकारी राष्ट्रपति ओलेक्ज़ेडर टरचीनोव ने रुस पर क्रिमिया में सेना की तैनाती करने और यूक्रेन को सैन्य संघर्ष के लिए उकसाने का आरोप लगाया है.

टेलीविज़न पर प्रसारित अपने संदेश में उनका कहना था कि रूस चाहता है कि यूक्रेन की नई अंतरिम सरकार उसके उकसाने पर प्रतिक्रिया दे ताकि रूस क्रिमिया पर अपना क़ब्ज़ा जमा सके.

ये संदेश उन अपुष्ट रिपोर्टों के बाद आया है जिसमें कहा गया है कि रुस के विमान क्षेत्र की तरफ़ आए है जिसमें सैकड़ो की संख्या में सैनिक सवार हैं.

वहीं ये भी ख़बरें आ रही हैं कि रुस के वफ़ादार माने जाने वाले सशस्त्र लोगों ने मुख्य क्षेत्रों को नियंत्रण में ले लिया है.

राष्ट्रपति ओलेक्जे़डर ने रुस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन से ''इस उकासाने वाली कार्रवाई को रोकने और बातचीत शुरु करने की अपील की है.''

अपील

उनका कहना था कि रुस का बर्ताव साल 2008 जैसा है जब उसने जॉर्जिया में अपनी सेना भेजी थी. उन्होंने रुस के राष्ट्रपति से सेना हटाने की अपील की.

ओलेक्ज़ेंडर का कहना था, ''ये लोग हमें सैन्य संघर्ष के लिए उकसा रहे हैं. हमारी ख़ुफ़िया जानकारी के अनुसार वो ऐसी स्थिति बना रहे हैं जो कि उन्होंने अब्काज़िया में किया था. वहां उन्होंने संघर्ष की स्थिति पैदा की और फिर क्षेत्र पर क़ब्ज़ा जमा लिया. यूक्रेन में सुरक्षाकर्मी अपना काम कर रहे हैं लेकिन रुस उकसाने की कोशिश कर रहा है लेकिन हम उसके जाल में नहीं आएंगे.''

यूक्रेन के राष्ट्रपति का ये वक्तव्य उस ख़बर के कुछ घंटों बाद आया जिसमें रुस की तरफ़ से कहा गया था कि राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने पश्चिमी देशों के नेताओं से टेलीफ़ोन पर की गई बातचीत में ''हिंसा को रोकने की ख़ासी ज़रुरत बताई है.''

क्रिमिया में रुस के नौसैनिक बेड़ा ने अपना अड्डा बनाया हुआ है. अपुष्ट ख़बरों में कहा जा रहा है कि चार रुसी विमान राजधानी सिमफ़रोपोल में उतरे हैं और उसमें सात सौ सैनिक सवार हैं.

इमेज कॉपीरइट bbc

इस बीच अमरीका का कहना है कि यूक्रेन के मामले में रुस का हस्तक्षेप एक बड़ी ग़लती होगी. अमरीकी प्रवक्ता जे कार्ने ने कहा कि अमरीकी अधिकारियों ने इस बात पर ज़ोर दिया है कि यू्क्रेन की क्षेत्रिय अखंडता का सम्मान किया जाना चाहिए.

इससे पहले अमरीका के विदेश मंत्री जॉन केरी का कहना था कि उन्हें इस बात का आश्वासन दिया गया है कि रुस, यूक्रेन की सम्प्रभुता का उल्लंघन नहीं कर रहा है. साथ ही उनका कहना था कि ये सभी के लिए बेहद ज़रुरी है कि हालात और ख़राब न हों.

हालात

इमेज कॉपीरइट AP

संयुक्त राष्ट्र में यूक्रेन के राजदूत यूरी सर्गेयेव ने सुरक्षा परिषद को स्थिति से अवगत कराने के बाद पत्रकारों को बताया कि परिषद को यूक्रेन के हालात पर गंभीरता से विचार करने को कहा गया है.

उनका कहना था, ''हमने सुरक्षा परिषद से यूक्रेन के हालात को गंभीरता से विचार-विमर्श करने को कहा है. वहां जिस तरह से ख़तरनाकतौर पर स्थिति बदल रही है उसे देखते हुए हमने परिषद से उचित क़दम उठाने को कहा है. ये स्थिति अंतराष्ट्रीय शांति के लिए भी चुनौतीपूर्ण हैं.''

एक मुख्य टेलीविज़न चैनल के संपादक ने बीबीसी को बताया है कि उन्हें ये जानकारी मिली है कि क्रिमिया में सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण इलाक़ों की लोग रक्षा कर रहे हैं.

शुक्रवार को यूक्रेन के अपदस्थ पूर्व राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच ने रुस में अपनी पहली प्रेस वार्ता में ''यूक्रेन में स्थिरता बनाए रखने में अक्षम रहने के लिए माफ़ी मांगी थी.''

ऑस्ट्रिया और स्विटज़रलैंड का कहना है कि वे यानुकोविच के खाते फ्रीज़ कर रहे हैं. ऑस्ट्रिया में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मार्टिन विएस का कहना था कि यूक्रेन की सरकार से 18 यूक्रेन के लोगों के खाते फ्रीज़ करने की अपील की गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार