समलैंगिक सेक्स के आरोप में अनवर फिर दोषी क़रार

अनवर इब्राहिम इमेज कॉपीरइट Reuters

मलेशिया की एक अदालत ने विपक्ष के नेता अनवर इब्राहिम को समलैंगिक यौन संबंध बनाने के मामले में दोषमुक़्त क़रार दिए जाने के फ़ैसले को सरकार की अपील के बाद पलट दिया है. इसके बाद उन्हें पाँच साल की जेल की सज़ा सुनाई गई है.

अनवर इब्राहिम की अगुवाई में मलेशिया की विपक्षी पार्टी ने मई 2013 में हुए आम चुनाव में अपना अब तक का सबसे मज़बूत प्रदर्शन किया था.

मलेशिया में समलैंगिक संबंध अपराध हैं लेकिन समलैंगिकता के आरोपों में बहुत कम लोगों को ही सज़ा दी गई है.

अनवर इब्राहिम हमेशा कहते रहे हैं कि उनके ख़िलाफ़ लगे आरोप उन्हें बदनाम करने के राजनीतिक अभियान का हिस्सा हैं.

अदालत के इस फ़ैसले के बाद सेलानगोर प्रांत में होने वाले उपचुनाव में हिस्सा लेने की इब्राहिम की योजना को झटका लगेगा.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक अनवर इब्राहिम के वकील फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील कर सकते हैं.

अनवर इब्राहिम पर 2008 में अपने एक पुरुष सहयोगी के साथ सेक्स करने के आरोप लगे थे लेकिन 2012 में हाई कोर्ट ने सबूतों के अभाव में उन्हें दोषमुक़्त कर दिया था.

बाद में सरकार ने फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील की थी.

'न्याय का मज़ाक'

अदालत के फ़ैसले से पहले मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच ने सरकार की अपील को न्याय का मज़ाक कहा था.

संगठन ने अपने बयान में कहा था कि यह प्रधानमंत्री नजीब रज़ाक के अपने विरोधियों को चुन-चुनकर निशाना बनाने का संकेत है.

संवाददाताओं के मुताबिक़ अनवर को 1957 में मलेशिया की आज़ादी के बाद से देश पर शासन कर रही सत्ताधारी पार्टी के लिए मुख्य चुनौती के रूप में देखा जा रहा है.

2013 में हुए चुनाव में सत्ताधारी बारीसन नेशनल गठबंधन ने 222 में से 133 सीटें जीती थी. हालाँकि गठबंधन को सत्ता मिल गई थी लेकिन यह उसका अब तक का सबसे ख़राब प्रदर्शन था.

चुनाव नतीज़ों के बाद विपक्ष के हज़ारों समर्थकों ने नतीजों पर सवाल उठाते हुए प्रदर्शन किए थे.

अनवर इब्राहिम भी पहले बारीसन नेशनल गठबंधन से ही जुड़े थे लेकिन पार्टी के बड़े नेताओं से विवाद के बाद 1998 में उन्हें निकाल दिया गया था.

मुक़दमे

इसके बाद उनके ख़िलाफ़ भ्रष्टाचार और समलैंगिकता के आरोप लगे थे. सत्ता के दुरुपयोग के आरोपों में उन्हें छह साल की सज़ा हुई थी जिसके विरोध में व्यापक प्रदर्शन हुए थे.

साल 2000 में उन्हें अपनी पत्नी के ड्राइवर के साथ सेक्स संबंध रखने का दोषी पाया गया था और नौ साल की सज़ा सुना दी गई थी.

2004 में मलेशिया के सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें दोषमुक़्त क़रार दिया जिसके बाद वह जेल से आज़ाद हो गए थे.

इसके बाद वह विपक्ष के एक मजबूत नेता के रूप में उभरे और 2008 और 2013 के चुनाव में उनकी पार्टी के प्रदर्शन में बड़ा सुधार हुआ.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. 'आप' हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार